03 February, 2009

यूँ ही

वो कौन सा सच होता है जो सामने होते हुए भी नहीं होता?

जैसे तुम हो...मगर तुमसे बात नहीं कर सकती, टोक भी नहीं सकती...सामने से गुजर जाओ और कुछ कह भी नहीं सकती...मेरे शहर में आओ मगर तुमसे मिलने की ख्वाहिश नहीं कर सकती।

तुम्हारा शहर किसी हादसे से गुजर जाए और मैं तुम्हारी खैरियत के बारे में नहीं जान सकती...तुम्हें सोच नहीं सकती, तुम्हें भूल नहीं सकती...

तुम्हारी राहों पर चल नहीं सकती, अपनी राहों पर तुम्हारा इंतज़ार नहीं कर सकती...चौराहों पर पूछ नहीं सकती कि तुमने कौन से राह ली है...अंदाजन चलती जाती हूँ।

वो रिश्ते भी तो होते हैं न जो बस एक तरफ़ के होते हैं, तुम्हारी जिंदगी में मेरी कोई जगह नहीं होने से मेरी जिंदगी में तुम्हारी जगह मैं किसी और को तो नहीं दे सकती न...

क्या पुल जला देने से पुल के पार वालो का होना ख़त्म हो जाता है...नहीं न?

ठीक है गुनाहों कि माफ़ी नहीं होती...सज़ा तो होती है...मेरी सज़ा ही मुक़र्रर कर दो...या उसके लिए भी क़यामत का इंतज़ार करना होगा?

19 comments:

  1. किसी के इंतज़ार में राहें ताकते हैं लोग
    अनदेखे रास्तों पर भी चलते हैं लोग ....

    वो तो बस तेरी चाहत है जो ....
    सजा के लिए भी हम
    क़यामत का इंतज़ार इंतज़ार कर लेंगे ....


    लाजवाब है पूजा मैडम ...


    अनिल कान्त
    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. क्या पुल जला देने से पुल के पार वालो का होना ख़त्म हो जाता है...नहीं न?

    well said

    ReplyDelete
  4. इस डिलेम्मा से मुक्ति तो डोड्डा गणपती ही दे सकता है. बहुत सुंदर लिखा है. आभार.

    ReplyDelete
  5. शायद जीवन ऐसी ही खूबसूरत और खामोश पहेली है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. आप सादर आमंत्रित हैं, आनन्द बक्षी की गीत जीवनी का दूसरा भाग पढ़ें और अपनी राय दें!
    दूसरा भाग | पहला भाग

    ReplyDelete
  7. " यूँ ही" एक भावप्रधान एवं प्रेम समर्पण की सुंदर रचना है, आपकी ऊंची कल्पना के लिए एक बार पुनः बधाई.
    मैं भी संदर्भित दो लाइंस लिख रहा हूँ>>>>
    दिन , महीने, साल क्या, सदियाँ गुजर जाएँ...
    हम न भुला पायेंगे , वो आयें या न आयें....
    - विजय

    ReplyDelete
  8. कहीं ये बस अपनी बुनी जकड़ने तो नही?
    कभी कभी लगता है
    कि कहीं अगले को भी तो इन्ही बंधनों ने ही तो नही जकड रखा है?
    क्या पता अगला भी यही सोचता हो
    क्या पता अगला भी..
    बस यूँ ही परेशान हो!

    ReplyDelete
  9. आज का लिखा पढ़्कर तो किसी की याद आ गई।

    ठीक है गुनाहों कि माफ़ी नहीं होती...सज़ा तो होती है...मेरी सज़ा ही मुक़र्रर कर दो

    वाह क्या लिखा है।

    ReplyDelete
  10. अफ़सोस यही है कि पुल जलाने से उस पार वाले नहीं मिटते, फ़िर भी कोशिश करने की ख्वाहिश है| कोशिश और फ़िर गुबार, फ़िर पुल कि मरम्मत में लग जाता हूँ|

    ReplyDelete
  11. lajvaab hai ji..
    ye to copy karne layak post hai..
    bas aapne jaha jaha sakti likha hai,,
    mai sakta likh dunga.. :)
    copy kar lun..?
    par ab to kar liya..:)

    ReplyDelete
  12. aapke blog ke berain mein chapa hai aaj dainik jagran mein, Ravish ji ne likha hai Kasba wale ravish ji :-) very gud :-)

    ReplyDelete
  13. छोटे छोटे टुकडों में भी आपने जिंदगी के बडे बडे सच बयां कर दिये हैं।
    बधाई।

    ReplyDelete
  14. बिखरे बिखरे से ख्याल लगते है..

    ReplyDelete
  15. फ़िर गुलज़ार याद आ गए ......मै तेरे शहर चला तो आता ...पर बीच के सारे पुल जला दिए थे ........

    ReplyDelete
  16. इन्ही बीते लम्हों और ख्यालो से बुनी है ज़िन्दगी ..आपने उसको खूबसूरत लफ्जों से बयान किया है

    ReplyDelete
  17. ????.....

    पुल जल जाने वाली बात,कहने का अंदाज अलौकिक

    ReplyDelete
  18. कल ही मैंने पढ़ लिया था इसे.. संयोग कुछ ऐसा कि तुम्हारे इस पोस्ट के तुरंत बाद ही मैंने एक और पोस्ट पढ़ा था जिसके लिखने का तरीका बिलकुल इसी पोस्ट के जैसा ही था.. बस विषय अलग-अलग हैं दोनों के.. लिंक लग हुआ है देख लेना.. :)

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...