15 February, 2009

हमने देखी है उन आंखों की महकती खुशबू

उन आंखों में ख़ुद को देखकर ख़ुद के जिन्दा होने का अहसास होता है...
और अक्सर जाने अनजाने चाय की चुस्कियों में
तुम कह देते हो कि तुम्हें मुझसे कितना प्यार है...

प्यार बस कहने भर को तो नहीं होता...
वो भी तो प्यार है जब जली हुयी सब्जी चुप चाप खा लेते हो
या कपड़े इस्तरी नहीं होने पर ऑफिस जाने की जल्दी नहीं मचाते
या मोजे खो जाने पर मेरे साथ मिल कर ढूंढ लेते हो...

वो भी तो प्यार है न...
मेरी कोई फ़िल्म आ रही होती है तो ख़ुद से मैगी बना लेते हो
भूत वाली फिल्मों के बाद कुछ हलकी फुलकी बातें करते हो
मेरे साथ कभी कभी बाईक पर पीछे भी बैठ लेते हो...

मुझे नींद आती रहे तो कभी नहीं उठाते हो
रात के teen बजे मेरी कवितायेँ सुनते हो
मेरी पसंद के कपड़े पहनते हो...

हर दिन के कुछ नन्हे नन्हे लम्हों में
हम मिल कर वैलेंटाइन मनाते हैं
फगुआ की मीठी मस्ती सी तुम
और होली के रंगों रंगों सी मैं

फ़िर भी अच्छा लगता है...
जब तुम बिना याद दिलाये
एक लाल गुलाब और क्यूट टेडी लाते हो...

I am still a hopeless romantic...euphoric to get a teddy and a rose :)

12 comments:

  1. यह प्यार हमेशा बरकरार रहे.. हर पल एक वेलेंटाइन डे कि तरह गुजरे..

    ReplyDelete
  2. ऐसा प्यार सबको नसीब हो.

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. भतीजा ताऊ से सहमत न हो ऐसा हो नही सकता। आमीन्।

    ReplyDelete
  4. जितनी तारीफ़ की जाए कम है। अच्छी और सच्ची कविता पढने का मौका देने के लिए आभार्।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर. हमें कुछ ऐसे ही ख्याल आ रहा है. हाय ये मजबूरियाँ ...! (in lighter vein)

    ReplyDelete
  6. हर दिन के कुछ नन्हे नन्हे लम्हों में
    हम मिल कर वैलेंटाइन मनाते हैं

    wah.. sach yeh pyar hamesah ke liye rahe :-) God vless u

    ReplyDelete
  7. क्या बात है पूजा जी...सच मेंबहुत अच्छा लिख लेती हैं आप...!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर. हमें कुछ ऐसे ही ख्याल आ रहा है....

    ReplyDelete
  9. hahahahahahaha,kya khoob likhi hai ,behad sundar,aur koi shabd nahi hai mere pass .kahan thi aap ab tak ?uthiye ,likhiye aur chhaa jaiye ,aapse seedhe saadhe shabd hamare seedhe saadhe hindustani doston ko pasand aayegne .samy mile to yahan nigaah daliyega www.katrane.blogspot.com

    ReplyDelete
  10. maaf karna kaye din lag gaye aap k blog par aate aate....pune FTII gaya thja....aapka yh blog acha laga...thoda aur bh likho iske bare m....padhne ka mann karta h....pyar ke naye rang dikhane k liya shukriya

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...