28 March, 2009

यूँ ही


मैं तुम्हें बताना चाहती हूँ बहुत सारा कुछ
इसलिए नहीं कि तुम्हें मालूम नहीं है
इसलिए भी नहीं कि
मुझे यकीन हो कि मेरे बताने से तुम भूलोगे नहीं

शायद सिर्फ़ इसलिए
कि किसी दिन झगड़ा करते हुए
तुम ये न कहो कि तुम्हें मैंने बताया नहीं था

झगड़े भी अजीब होते हैं यार
कभी एक किलो झगड़ा, कभी आधा क्विंटल

तुम जानते हो
कभी कभी मेरा मन करता है
कि मेरी आँखें नीली होती
या हरी, भूरी या किसी भी और रंग की होती
लेकिन तुम्हें काली आँखें पसंद है न?

कुछ उँगलियों पर गिनी फिल्में हैं
जो तुम्हारे साथ बैठ कर देख लेना चाहती हूँ
इसलिए नहीं कि मैंने देखी नहीं है
बस एक बार तुम्हारे साथ देखने भर के लिए

गॉन विथ थे विंड मैंने जब पहली बार देखी थी
मुझे पहले से मालूम था कि अंत क्या होने वाला है
मैं फ़िर भी बहुत देर तक रोती रही थी
वो अकेलापन जैसे मेरे अन्दर गहरे उतर गया था
शायद तुम्हारे साथ देखूं...तो वो जमा हुआ अकेलापन पिघल जाए

तुम्हें हमेशा rhett butler से compare जो करती हूँ
शायद मैं कोई आश्वाशन चाहती हूँ
कि तुम मुझे छोड़ कर नहीं जाओगे कभी...

डर सा लगता है
जब सूनी सड़कों पर गाड़ी उड़ाती चलती हूँ
या दसमहले से एकटक नीचे देखती रहती हूँ
या खामोश सी सब्जी काटती रहती हूँ
कभी कभी तो गैस जलाते हुए भी

मौत की वजहें कहाँ होती हैं
वो तो हम ढूंढते रहते हैं
ताकि अपनेआप को दोषी ठहरा सकें
कि हम रोक सकते थे कुछ...हमारी गलती थी

किसी से बहुत प्यार करो
तो खोने का डर अपनेआप आ जाता है

क्या जिंदगी के साथ भी ऐसा ही होता है?

31 comments:

  1. BADHIYA LIKHA HAI PUJA JI AAPNE... BADHAAEE


    ARSH

    ReplyDelete
  2. झगड़े भी अजीब होते हैं यार
    कभी एक किलो झगड़ा, कभी आधा क्विंटल
    jhagada bhi taul maap ke bahut khub,achhi lagi rachana.

    ReplyDelete
  3. कविता एक ऐसे कॉपी राईटर का वक्तव्य लगती है जो या तो कॉफी हाउस की सबसे आखिरी टेबल पर बैठता है या फिर बाहर लगी रेलिंग पर.

    ReplyDelete
  4. हमारे तो झगडे भी सात किलो के लठ्ठ से होता है.:)

    बहुत सुंदर और मन को भाई यह रचना. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. bhawnaoo or shabdo ka achha sangharsh dikha aapke vicharo main...
    its really natural poem...yaar i m impressed u such a multi tallented... shubhkamnayen

    Jai Ho mangalmay HO

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर रचना. शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. bful bful bful, kitte pyare shabdo kitte pyare ehsaso se badi hui kitni pyari kavita..... kabhi kabhi na socha hu ki kabhi kisis ko itna pyar hi kyn kar liya ki uske dur jane ke darr se dil kaap jata hai....

    ReplyDelete
  8. उदास मन की गंभीर कविता . अकेलेपन को बाहर निकालने की कविता , जो नहीं कहा उसे कहने की कविता तो कोई आप से सीखे बहुत खूब .

    ReplyDelete
  9. कई बार जब दिन को टटोला है
    तो अक्सर
    उसकी जेब में
    पायी है कुछ उदासिया
    कुछ खुशिया ओर अनकहा सा कुछ
    जानते हो ऐसे कई दिनों के भीतर तुम हो ...

    ReplyDelete
  10. किसी से बहुत प्यार करो
    तो खोने का डर अपनेआप आ जाता है
    बहुत ठीक लिखा

    ReplyDelete
  11. पूजा जी,एक तो आपका ब्लॉग बहुत सुन्दर है,उस पर आपका लेखन मन को छू लेता है,आपकी रचनाओं में भावनाओं के निकट होने का एहसास होता है.

    'बताना चाहता हूँ बस बताने के लिए ..' का भाव पूर्ण शिल्प आरम्भिक पंक्तियो में ही पाठक को रचना से जोड़ देता है.

    '...लेकिन तुम्हे मेरी काली आँखे पसंद है.' पंक्तियाँ मन में गहरे उतरती जाती है.

    रचना में कहीं कहीं शब्द एवं शिल्प शिथिल जरूर हुआ है,परन्तु भाव की प्रभावोत्पादकता पूरी रचना में अक्षुण रही है.
    मुझे यह कविता बहुत पसंद आई...

    ReplyDelete
  12. कभी एक किलो झगड़ा, कभी आधा क्विंटल !!!

    वाह भई वाह... बहुत खूब लिखा है

    ReplyDelete
  13. और मैं देखना चाहता हूँ वो एकटक आँखें
    और उन आँखों का सूनापन
    जिन्हें में छोड़ आया था
    उस मोड़ पर जहाँ से रास्ते बदल गए
    क्या अब भी वो आँखें वैसी ही दिखती हैं ...


    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  14. पहले पाने की इच्छा और फिर उसको खोने का डर..कुछ कहता अनकहा सा हर लफ्ज़ खुद में एक कविता ब्यान कर जाता है .बहुत संदर बिम्ब और भाव ..

    ReplyDelete
  15. बहुत अच्छी कविता है , आप बहुत सुन्दर लिखती हैं.

    ReplyDelete
  16. bahut aacha likha haa....
    keep it up

    ReplyDelete
  17. किसी से बहुत प्यार करो
    तो खोने का डर अपनेआप आ जाता है
    क्या जिंदगी के साथ भी ऐसा ही होता है?

    बहुत सुंदर! आम जिंदगी से जुड़ी रचना।

    ReplyDelete
  18. किसी से बहुत प्यार करो
    तो खोने का डर अपनेआप आ जाता है.
    बहुत ही सुंदर कविता...
    लेकिन प्यार करने वाले हिसाब किताब कहं रखते है ?

    ReplyDelete
  19. इक नयी स्कारलेट को मेरा सलाम

    ReplyDelete
  20. कविता अच्‍छी लगी

    ReplyDelete
  21. Sahi Kaha..Jab tak pyar nahin hota hum adventure dhoondhte hain, Pyar aane par wahi ek adventure hota hai..Aur ye bhi sonchna padta hai ki hum chale gaye, to Uska kya hoga..

    Wasie Anurag ji ki kavita wali baat se main bhi agree kerta hoon haan lekin aap 'exception' hain :)

    ReplyDelete
  22. कविता के पूर्वार्ध के बारे में तो यही लगता है हमें कि यह पूरी तरह से ब्लॉग परंपरानुकूल है - व्याकरण आदि से मुक्त - फकत विचार प्रवाह। सहज रूप से मन को शब्द देना वह भी Unabridged. (कदाचित यह टिप्पणी आपकी अन्यान्य कविताओं और आलेखों के लिये भी है)

    उत्तरार्ध में "डर सा लगता है... क्या जिंदगी के साथ भी ऐसा ही होता है?" में भी ऐसा ही था। हाँ कुछ विश्लेषणात्मक, प्रश्नात्मक निष्कर्ष के साथ!

    अंत की पंक्तियाँ -
    "किसी से बहुत प्यार करो
    तो खोने का डर अपनेआप आ जाता है"
    हमें तो यह शाश्वत सिद्धांत लगता है। चाहे हम इसे किसी मानवीय सम्बन्धों की कसौटी पर परखें अथवा पालतू पशु के सन्दर्भ में देखें। अर्जित भौतिक सम्पदा और सामगी के लिये भी - जितना चाहेंगे उतना ही भय। व्यक्तिगत गुण आदि जैसे उपलब्धियाँ, यश यहाँ तक शारीरिक सौन्दर्य, बल, सौष्ठव आदि में भी, कदाचित यह सही हो - जितना प्यार, लगाव उतना ही डर उसे खोने का।
    On a lighter note: Insurance business is based on this very fundamental concept, I presume.
    हमारे इस प्रेक्षण / विचार से कोई असहमत भी हो सकता है।

    ReplyDelete
  23. कई बार आँखों से गुजरा था नाम आपका
    आज गुजरा तो जैसे ठहर हीं गया.

    दिल को अच्छी लगी आपकी ये छोटी छोटी ख्वाहिशें.

    ReplyDelete
  24. puja ji.. lau ke neeche jaise sabse zyada andhera rehta hai waise hi.. pyaar jahan sabse zyada hota hai wahin sabse zyada khone ka darr rehta hai.. ye lazmi hai..mera mehsoos kiya hua hai..

    acchi kavita..

    ReplyDelete
  25. Sach batau ?? ..mujhe itani pasand nahi aayi..matlab aap ke anya kavitao ko dekhate hue..

    Aap ke kafi kavitae mene padhi he..vo bachotaahi jyada achhi lagi isase..

    Kya pata, shayad meri nasamzi ki vajah se mujhe aisa lagta hoga ;)

    ReplyDelete
  26. bahoot khubsuraat si soch k sath bahoot sunder kavita.......

    ReplyDelete
  27. ऐसा ही कुछ हमने भी महसूस किया है.. कुछ ऐसा जो हम जानते है पर उसे बताने पर जो सुकून मिलता है.. वो समंदर किनारे नंगे पाँव रेत पर टहलने में भी नही आता..

    ख्यालो को बाँधने का हुनर तुम जानती हो..

    ReplyDelete
  28. पढ़ तो तीन दिन पहले ही लिये थे लेकिन सोचते रहे कि आपसी गुफ़्तगू में क्यों खलल डालें? क्या कहें?

    ReplyDelete
  29. मौत की वजहें कहाँ होती हैं
    वो तो हम ढूंढते रहते हैं
    ताकि अपनेआप को दोषी ठहरा सकें
    कि हम रोक सकते थे कुछ...हमारी गलती थी

    किसी से बहुत प्यार करो
    तो खोने का डर अपनेआप आ जाता है

    shayad yahi sachchayi hai, behtar hai ham ise kubul kar len.

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...