09 March, 2009

काश मेरे पास रिवोल्वर होता

मुझे एक छोटी सी रिवोल्वर खरीदने का मन था...और बाहर जाते वक्त अपने पैर में नीचे की तरफ़ उसे बाँध के रखने का, एक दिन मैंने मम्मी से कहा था कि मेरे पास बहुत पैसे हो जायेंगे न तो मैं एक छोटी सी रिवोल्वर खरीदूंगी जिसे मैं हमेशा अपने पास रखूंगी। मुझे याद है उस दिन मम्मी से बहुत डांट पड़ी थी ये सब उलूल जलूल ख्याल तुम्हारे दिमाग में कहाँ से आता है।

ये वो वक्त था जब मैंने कॉलेज जाना शुरू किया था, और हमारे कॉलेज में चूँकि ड्रेस कोड था तो सिर्फ़ सलवार कुरता पहन कर ही जा सकती थी...उस वक्त कई बार हुआ था कि किसी लड़के ने दूर तक पीछा किया हो, और डर ये लगता था कि अगर किसी ने देखा तो मुझे डांट पड़ेगी। दुपट्टे को बिल्कुल ठीक से लेती थी अपने आप को पूरी तरह ढक के चलती थी, और उस वक्त बिल्कुल सिंपल कपड़े पहनती थी वो भी हलके रंगों में...फ़िर भी ऐसा कई बार होता था। पटना में ऑटो रिजर्व करके नहीं चलते, एक ऑटो में तीन या चार लोग बैठते हैं। कई बार लगता था कि बगल में बैठा लड़का जान कर कुहनी मार रहा है, मगर सड़कें ख़राब होती थीं तो कुछ कह भी नहीं सकते थे।

घर से कॉलेज कोई तीन किलोमीटर था और लगभग १० मिनट लगता था जाने में, पर वो दस मिनट इतनी जुगुप्सा में बीतते थे...वाकई घिन आती थी और लगता था कि काश मैं स्टील के या ऐसे ही कुछ कपड़े पहनती या बीच में एक पार्टीशन रहता। ऑटो में हमेशा देख कर बैठते, ये हम सब लड़कियों को अपने अनुभव और seniors में मिले नसीहतों के कारण पता था कि अधेड़ उम्र के पुरुषों के साथ बिल्कुल नहीं जाना है ऑटो में। उनका लिजलिजा स्पर्श ऐसी वितृष्णा भर देता था कि पहले period ठीक से पढ़ाई नहीं हो पाती थी। मम्मी ने कहा था कि जब भी असहज हो उतर जाऊं...और मैं ऐसा ही करती थी। लेकिन कई बार होता था कि लगता था कि कहीं हमें ही शक तो नहीं हो रहा...या फ़िर लेट हो रहा रहता था...कोई भी लड़का ये सोच भी नहीं सकता है कि ऐसी स्थिति में लड़की की क्या हालत होती है, मेरी तो साँस रुकी रहती थी, जितना हो सके अपनेआप में सिमट के बैठती थी।

वापस घर लौटते वक्त वही बेधती निगाहें, चौराहे पर खड़े लफंगे जाने आपस में क्या कहते हुए, बस सर झुका कर नज़र नीचे रखते हुए जितने तेजी से हो सके गुजर जाती थी वहां से...फ़िर भी लगता था वो नजरें पीछा कर रही हैं। और ऐसा एक दो दिन नहीं पूरे तीन साल झेला मैंने...और मैंने ही नहीं हर लड़की ने झेला था...हम सब का गुस्सा एक था और इस गुस्से को बाहर करने कि कोई राह नहीं।
मैं एक बार ऐसे ही बोरिंग रोड के पास अपने प्रोजेक्ट के लिए कुछ सामान ले रही थी, एक दुकान से दूसरी जाते हुए एक आदमी साइकिल से मेरे पीछे से कुछ बोलते हुए गुजरा, मैंने नजरअंदाज कर दिया सामान लेकर वापस आई तो वही आदमी फ़िर कुछ बोलते हुए निकला...मैं आगे बढ़ी थी वो फ़िर आगे से आता दिखा...उस दिन शायद मेरा गुस्सा मेरे बस में नहीं रहा, मेरे हाथ में एक पोलीथिन बैग था जिसमे छाता और बहुत सा सामान था जो मैंने ख़रीदा था॥मैंने पोलीथिन से खीच कर मारा था उसे बहुत जोर से, सीधे मुंह पर...उसका साइकिल का करियर पकड़ लिया और जितनी गालियाँ आती थी बकनी शुरू कर दी, सोच लिया था की आज इसका मार मार के वो हाल करुँगी की किसी लड़की को छेड़ने में इसकी रूह कांपेगी...चाहे मुझे पुलिस के पास जाना पड़े, परवाह नहीं। मैंने उसे तीन चार बार मारा होगा उसी पोलीथिन से और जोरो से गुस्से में चिल्लाये जा रही थी पर आश्चर्य जनक रूप से कहीं से कोई भी कुछ कहने नहीं आया...वो आदमी आखिर साइकिल छुड़ा के भाग गया।

मैंने ऑटो लिया और सीधे घर आ गयी, घर पर किसी को कुछ नहीं बताया, अगले दिन कॉलेज में दोस्तों को बताया...बात पर सब खुश भी हुए और डरे भी...की मान लो वो आदमी फिर आ गया और खूब सारे लोगो के साथ आया तो तुम अकेली क्या कर लोगी। बात डरने की थी भी, पर खैर वो आदमी फिर नहीं दिखा मुझे, पर बोरिंग रोड मैं अगले कुछेक हफ्तों तक अकेले नहीं गयी.

ऐसी एक और घटना ऑटो में हुयी, एक लड़का बगल में बैठा था, कुछ १६-१७ साल का होगा...सारे रास्ते कुहनी मार रहा था और जब उसे डांटा की क्या कर रहे हो, तमीज से बैठो तो उसने ऑटो रुकवाया और कुछ तो कहा, बस मैं भी उतरी और उसका कॉलर पकड़ के एक झापड़ मारा, बस वो हड़बड़ाया और भागने के लिए हुआ, पर कॉलर तो मेरे हाथ में था और मैं छोड़ नहीं रही थी उसका कॉलर पूरी तरह फट गया और वो भाग गया.

ये दो दुस्साहस के काम मैंने किये थे...पर मुझे बहुत डर लगता था, डर उनसे नहीं अपनेआप और अपने इस न डरने से लगता था कि किसी दिन इसके कारण मुसीबत में न फंस जाऊं। पटना में उस वक़्त पुलिस और कानून नाम की कोई चीज़ नहीं थी, पूरा गुंडाराज चलता था...ऐसे में अगर कोई मुझे उठा के ले जाता तो कहीं से कोई चूँ नहीं करता.

आज जब लोगो को बोलते हुए सुनती हूँ कि लड़की ने छोटे या तंग कपड़े पहने थे इसलिए उसके साथ ऐसा हादसा हुआ तो मन करता है एक थप्पड उन्हें भी रसीद कर दूँ...क्योंकि मैंने बहुत साल फिकरे सुने हैं और ये वो साल थे जब मैं सबसे संस्कारी कपड़े पहनती थी जिनमें न तो कोई अश्लीलता थी और न मेरे घर से निकलने का वक़्त ऐसा होता था कि मेरे साथ ऐसा हो। जब भी ऐसी कोई बहस उठती है मेरे अन्दर का गुस्सा फिर उबलने लगता है और इन समाज के तथाकथित ठेकेदारों और झूठे संस्कारों कि दुहाई देने वालो को सच में गोली मार देने का मन करता है.

दिल्ली में बस पर चलती थी तो हमेशा हाथ में एक आलपिन रहता था कि अगर किसी ने कुहनी मारी तो चुभा दूंगी...नाखून हमेशा बड़े रखे इसलिए नहीं कि खूबसूरत लगते हैं, इसलिए कि अगर किसी ने मुझे कुछ करने की कोशिश की तो कमसे कम अँधा तो कर ही सकती हूँ...और यही नहीं कई दिन बालों में जूड़ा पिन लगाती थी सिर्फ इसलिए कि ये एक सशक्त हथियार बन सकता है.

कहने को हम आजाद हैं, लड़कियों और लड़कों को बराबरी का दर्जा मिला है...मगर क्या ऐसी किसी भी मानसिक प्रताड़ना किसी लड़के ने कभी भी झेली है जिंदगी में? क्या ये कभी भी समझेंगे कि एक लड़की को कैसा महसूस होता है...नहीं...क्योंकि ये नहीं समझेंगे कि ऐसा होने पर हमारा क्या करने का मन करता है...ये कहेंगे अवोइड करो, ध्यान मत दो...अगर एक बार भी किसी लड़के को ऐसा लगा न तो वो बर्दाश्त नहीं करेगा लड़ने पर उतर आएगा...क्यों? क्योंकि वो सशक्त है? eve teasing जैसा नाम दिया जाता है और इसकी शिकायतों पर कोई ध्यान नहीं देता.

आज मैं उस वक़्त सी छोटी नहीं रही...लड़के मुझे अब भी घूरते हैं...बाईक चलाती हूँ तो पीछा करते हैं...मैं अनदेखा कर देती हूँ...मगर हर उस वक़्त मैं परेशान होती हूँ और हालांकि उन शुरूआती दिनों में जब मेरी सोच खुली नहीं थी और आज जब मैंने इतनी दुनिया देख रखी है...इतने अनुभवों से गुजर चुकी हूँ. आज भी सिर्फ इसलिए कि मैं लड़की हूँ मुझे इस मानसिक कष्ट को झेलना पड़ता है.

मेरा आज भी मन करता है कि मेरे पास एक रिवोल्वर होता...इन लड़कों को कम से कम एक झापड़ मारने में डर तो नहीं लगता.

43 comments:

  1. defenately you are right. we should change the such mindset of some people. no need any type of gender discription in modern society. this article is best written by you in my opinion. i will come on your blog regularly because i have found here something different....i am alone in my life...during the preparation.here i find a lot of satisfaction...

    ReplyDelete
  2. bilkul theek likha hai aur kiya wo bhi theek, ladkiyan agar aise hi himmat dikhane lagen to chhed-chhaad ki ghatnayen samapt ho jaayen.

    ReplyDelete
  3. बहुत अछ्छा लिखा, पर सवाल ये है कि कितनी लडकियां ऐसा प्रतिकार कर पाती हैं? ज्यादातर तो डर के मारे कुछ बताती ही नही है.

    काश सभी लडकियां ऐसा कर पाये तो बहुत कुछ बदल सकता है. फ़िर भी इस घटना से सबक तो सभी को लेना ही चाहिये. बहुत शुभकामनाएं.

    होली की घणी रामराम.

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छे उद्गार लिखे हैं आपने.. कई बार तो ऐसी घटनाए सुन सम्झ कर बहुत शर्म आती है अपने पुरुष होने पर.. सच में पर पता है यह सब संस्कारों की बात है.. खैर. आपकी तरह हर लडकी इस तरह की समस्याओ से दो चार होती है.. और पनी तरह से मुकाबला भी कर लेती हैं.. समाज बहुत घिनौना है... वास्तव में. मेरी पत्नी मुझे इस तरह के कई अनुभव सुना चुकी है... वह भी यही कहती है कि कांश मेरे पास भी रिवोल्वर होती. और तो और मेरी १० साल की बेटी एक दिन अपनी मम्मी से कह रही थी मम्मी मैं न अगले जन्म में लडका ही बनूंगी तब आप मुझे अकेले नीचे जाने से कभी नहीं रोकोगी... विडंबना है यह इस देश की... सबके घरों मे मां है बहन है. और उनके सम्मान कि चिंता भी सभी को है. पर इसके बावजूद यह सब होता है... अफसोस है... और क्या करें क्या किया जाये... यह भी कोई समझाये तो...

    ReplyDelete
  5. सही लिखा है. समझ में आता है कि इतनी घृणा कैसे हो सकती है. जब तक रिवाल्वर नहीं ले लेतीं तबतक लात, घूँसा, जूता, चप्पल से काम चलाया करिए. इस तरह की करतूत करने वाले ऐसे किसी को भी बिना जूता मारे जाने मत दीजिये.

    ReplyDelete
  6. पूजा मैं भी तुम्हारी जैसी स्थितिओं से गुजर चुकी हूँ ..मैंने भी प्रतिकार किया है ..मुझे भी डर लगा हालाँकि झारखण्ड में गुंडा राज जैसी बात नही थी ..फिर भी कोयला माफिया तो थे ही .कई बार मैं चिढ़कर माँ के पास जाके कहती मुझे नहीं जाना कौलेज .
    पर फिर सोंचती माँ क्या कर सकती है ...कुछ नही ..कल उसने झेला आज मैं झेल रही हूँ ..कल शायद मेरी बेटी झेलेगी.मैं उसे कोलेज जाने के लिए गाड़ी तो दे सकती हूँ , पर खुल कर साँस लेने के लिए अच्छी दुनिया नही. अगर रिवाल्वर होता भी तो भी हम सिर्फ गन्दी नजरों से देखने वाले को इस सिर्फ इस बात के लिए गोली मार पाते..? नहीं न..तब भी हमारी गलती देखि जाती ..तुम ही गलत होगी ..दलीलों से यह साबित किया जाता...हाँ तुम्हारी बात सच है की डर कुछ कम हो जाता.

    ReplyDelete
  7. इस तरह की हरकते करने वाले कम नहीं है ...इस तरह की हरकते करने वालों को सबक मौका मिलते ही सिखा देना चाहिए

    ReplyDelete
  8. कितनी अजीब बात है, कल ही मेरी बात मेरी एक मित्र से हो रही थी जो दिल्ली में डाक्टर है.. गुस्से में आकर वही बात बोल रही थी जो आज तुम लिखी हो.. मेरा उसे कहना था की तुम डाक्टर हो और बिमारियां दूर करती हो.. मगर ऐसे मानसिक रूप से बीमार लोगों की बिमारी तुम कभी नहीं हटा सकती हो.. ऐसे मानसिक रूप से बीमार लोगों की बीमारी उनके साथ ही जायेगी.. और यह जितना जल्दी जाये इस समाज के लिये उतना ही अच्छा है..

    ReplyDelete
  9. जब तक समाज की नज़ारे और मान्यतायें नहीं बदलेंगी, कोई बदलाव नहीं आने वाला... अपने जो झेला है वो लगभग हर लड़की झेलती है और ये सरे अनुभव शर्मिंदा करते है हमे जब भूल से भी पुरुष होने का दंभ भरने लगते है..
    आपने पीडा को सुन्दर तरीके से शब्द दिया

    ReplyDelete
  10. बहुत सच लिखा है पूजा....ऐसी स्थिति से लगभग हर लड़की को गुज़रना पड़ता है!पर हर लड़की में इतनी हिम्मत नहीं होती!आत्म रक्षा के लिए अपने पास कुछ न कुछ रखना चाहिए!आजकर स्प्रे आते हैं जो तुंरत असर करते हैं.....या एक छोटा चाकू या और कुछ नहीं तो आलपिन,सेफ्टी पिन या मिर्च पावडर ही अपने पर्स में रख लेना चाहिए ताकि विपरीत परिस्थिति से निपट सके!

    ReplyDelete
  11. एक मजेदार बात लिखना तो भूल ही गया.. सभी लोग समझते हैं की जो दबंग होते हैं उन्हें परेशानियां नहीं झेलना परता है.. मगर यहां मैं अपनी जिस मित्र की बात कर रहा हूं वह बिहार के जाने-माने दबंग और बाहुबली परिवार से आती है.. इससे मैं सीधा यही निस्कर्ष निकाल रहा हूं की मामला चाहे कहीं का भी हो, मगर महिलाओं की स्थिती पुरूष खुद ही नहीं सुधरने देना चाहते हैं..

    ReplyDelete
  12. bas poojaji hum itana hi kehenge aapne har ladki ke dil ki baat keh di,kaash har ladki ko ek pistol rakhne ki izzazat mile...bahut sachha lekh.har ladki ko aapki hi tarah khud hi aise mamlo ka jawab dena hoga,bahaduri se.

    ReplyDelete
  13. अचानक लगा कि कितनी बड़ी लिबर्टी है मेरे पास कि कभी रिवॉल्वर लेने-रखने का विचार ही मन में न आया।
    ऑफ कोर्स; यह भी है कि ऐसी स्थिति नहीं बनाई कि मेरे कारण किसी के मन में रिवॉल्वर लेने का विचार आये।
    पर यह पोस्ट सोचने को बाध्य अवश्य कर रही है।

    ReplyDelete
  14. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  15. bahut hi badiya likha he.....

    ReplyDelete
  16. अच्छी पोस्ट! बच्चियाँ निडर बने और सामना करने से एकदम न भागें।
    आपकी भावनाओं और इरादों की मिसाल हमने देखी है। इस पर एक पोस्ट भी लिखी थी-यहाँ जाकर पढ़ी जा सकती है।
    http://pasand.wordpress.com/2007/04/03/welldone/

    ReplyDelete
  17. khoob likhti hai or khatarnak bhi. blogvani par teen din pahale aapka blog pahli baar padha jaldi me tha. isliye poora nahi padh saka. fir dhundh raha tha aapka blog ki achanak mil gaya. aapko ma sarsvati ka vardan hai. bahut khoob!

    ReplyDelete
  18. आपकी क्रांतिकारी सोच को सलाम . मेरी बेटी जो अभी छोटी है आपसे दो हाथ आगे है इस मामले मे .वह तो रिवाल्वर चला भी लेती है और गाली मे तो शायद डाक्टरेट है उसे

    ReplyDelete
  19. भारतीय समाज में एक आम लड़की की स्थिति का बेहतरीन चित्रण करती हुयी पोस्ट। पठनीयता गजब। बधाई!

    ReplyDelete
  20. यह पोस्ट पढकर मुँह से एकदम निकला " कमाल की बहादुर लड़की है पूजा।" वैसे लड़कियों को ऐसी ओछी हरकतों का सामना करना पड़ता है। सच उनको ऐसे ही मुँहतोड़ जवाब मिलना चाहिए। जब ही कुछ होगा। और हाँ रंगो भरी होली मुबारक।

    ReplyDelete
  21. सोचता हूँ तुम्हें एक रिवाल्वर प्रजेंट करूँ......कैपचर्ड वाली चलेगी क्या?
    सच लिखा है पूजा...दो बड़ी बहनों में छोटा हूँ और अपने सहरसा की सड़कों पर दोनों बहनों के संग गुजरते ऐसे ही हालात से वाकिफ़ हूँ\ उस वक्त छोटा था, अपने हिस्से की छोटी लड़ाइयां कर लिया करता था उन बड़े लड़कों से.....
    तुम्हारा ये पोस्ट कापी कर के अपनी दीदी को भेज रहा हूँ....
    और होली के ढ़ेर सारे रंग मुबारक

    ReplyDelete
  22. आप रिवॉल्वर की बात कर रहीं है!?
    मेरी बिटिया तो बम की जिद किए हुये है :-)

    ReplyDelete
  23. क्या ये कभी भी समझेंगे कि एक लड़की को कैसा महसूस होता है....बिल्कुल सही कहा!!

    जय हो निकल पड़ा पढ़ते पढ़्ते तुम्हारी बहादुरी पर. शाबाश!!

    ReplyDelete
  24. पूजा जी,

    मनी और मसल की दुरभि ताकत को तो आप जानती ही होगी जब और जहॉ भी इसका प्रभाव बढा इसने दूसरे को उत्‍पीडित ही किया है वात चाहे पुरूष का हो या महिला की हॉ महिलाओ की संख्‍या अधिक होती है,

    मनी और मसल का दुरूपयोग हमेंयह भी बताता है कि हम कभी न कभी बहुत ही बर्बर अवस्‍था मे रहे होगे

    ReplyDelete
  25. मतलब कि हमारी लड़की बहादुर है... महिला मित्रों से बात करके और ऐसे वाकये उनके मुंह से सुनकर लगा कि पुरुष होने के कारण हम पचास प्रतिशत दुनिया को उनसे तमाम तरह की नजदीकी होने के बावजूद नहीं जान पाते...
    अज्ञेय ने कहा था, "अपनी रक्षा के लिए मैं किसी और की हत्या का सामान लेकर नहीं घूम सकता." और मेरा इस वक्तव्य से पूरा इत्तेफाक रहा है मगर स्त्री के मामले में इसपर दुबारा विचार की ज़रुरत है.
    ज्ञान जी की बात से शत प्रतिशत सहमत...

    ReplyDelete
  26. क्या कहूं................................
    वितृष्णा सी होती है इस समाज से.
    जेएनयू आने के बाद जब यहाँ का माहौल देखा तो लगा की काश पूरे देश में महिलाओं के लिए ऐसा माहौल बन पाता.
    आप IIMC में पढ़ी हैं, जेएनयू आती जाती रही हैं आपको पता होगा की यहाँ महिलाएं किस तरह दिन हो या रात स्वछन्द और निर्भय होकर घूमती हैं. न किसी की चुभती निगाहों का डर, न बेधते कमेंट्स का.

    लेकिन ऐसा नहीं है यहाँ के लड़के बड़े सच्चरित्र हैं, या किसी अलग दुनिया से आये हैं. उनके अन्दर भी वही लिजलिजापन छुपा हुआ है पर उसे यहाँ दबा के रखा गया है. अच्छी कानून-व्यवस्था, न्याय और सजा के डर के द्वारा, (आप जैसी) निडर और अधिकारों के प्रति जागरूक लड़कियों के आत्मविश्वास के द्वारा. काश ऐसा माहौल हर जगह बन पाता. लोगों की मानसिकता को बदलना तो संभव नहीं है पर समाज और प्रशासन द्बारा ऐसा माहौल ज़रूर बनाया जा सकता है जिसमें लोग ऐसी हरकतें करनें से पहले सोचें; जिसमें लड़कियों को रिवॉल्वर खरीदने के बारे में न सोचना पड़े.

    ReplyDelete
  27. आज जब लोगो को बोलते हुए सुनती हूँ कि लड़की ने छोटे या तंग कपड़े पहने थे इसलिए उसके साथ ऐसा हादसा हुआ तो मन करता है एक थप्पड उन्हें भी रसीद कर दूँ...क्योंकि मैंने बहुत साल फिकरे सुने हैं और ये वो साल थे जब मैं सबसे संस्कारी कपड़े पहनती थी जिनमें न तो कोई अश्लीलता थी और न मेरे घर से निकलने का वक़्त ऐसा होता था कि मेरे साथ ऐसा हो। जब भी ऐसी कोई बहस उठती है मेरे अन्दर का गुस्सा फिर उबलने लगता है और इन समाज के तथाकथित ठेकेदारों और झूठे संस्कारों कि दुहाई देने वालो को सच में गोली मार देने का मन करता है.
    Meri 04-03-2009 ki post meN ek sher hai:-
    नज़र उतनी ही ज़्यादा बेहया थी
    बदन को जितना ज़्यादा ढाँपता था

    ReplyDelete
  28. "पोएम"जी....कानून को अपने हाथ में ना लें.....इससे अच्छा खुद को ही गोली मार लें....क्यूंकि दो-चार को गोली मार भी देने से सिर्फ इक आदमी कम हो जाता है....दुनिया भला कहाँ बदलती है....!!दरअसल स्त्रियों के लिए धरती दोजख ही रही है....और शायद आगे भी ऐसा ही कायम रहे....अब आप अपवाद की बात मत कर देना.....!!(इस तरह के विचारों से ऐसा लगता है....कि मर्द के रूप में जन्म लेकर कहीं कुछ गलती हो गयी....है मुझसे.....मगर कुछ भी मेरे अख्तियार में ना था....मुझे भी किसी माँ-बाप ने जन्म दे दिया था....मगर अब जो आ ही गया हूँ....तो मर्द की नयी परिभाषा गढ़ कर ही जाऊँगा....सच....ये वादा है मेरा दुनिया के तमाम इंसानों से....और तमाम स्त्रियों से भी खासतौर पर....क्यूंकि स्त्री का विश्वास आदमी पर से बड़ी तेजी से छीज रहा है.....इसे हर हालत में स्त्री को उसे लौटाना है.....और यह तब तक संभव नहीं.....जब तक पुरुष अपनी ताकत और बुद्धि का दंभ ना छोड़ दे....और ये जल्दी ही होगा....मैं बिलकुल सच कह रहा हूँ.....!!

    ReplyDelete
  29. un ladkiyon ka kaya ho jo ladko ko coment pas karti hai ki iski aankhe kharab hai ya hizya hai jo kabhi coment hi nahai karta hum itna saj dhaj ke kiske liya nikalti hai kabhi coment pass karo to musibat nahi pass karo to hizre
    kaya koi bhi ladka ye sunne ko tayar hoga ki wo hizra hai ladko ki vayatha ko kon samzhe

    ReplyDelete
  30. पूजा, गौतम सर की तरह आपको रिवोल्वर तो गिफ्ट नहीं कर सकता पर ये गाने गिफ्ट कर रहा हूँ....
    Hope You'll like them.
    :-)


    ना अखियाँ मिलायेंगी, ना सखियाँ बुलाएंगी , ना नखरे उठाएंगी, चलाको !
    ना गोरी होके आएँगी ना चोरी से मनाएंगी, ना बोरी में समायेंगी, चलाको !
    ना रोटियां खिलाएँगी , ना चोटियाँ बनायेंगी, ना पलकें झुकएँगी, चलाको !
    ना छत पे बुलाएंगी, ना नंगे पैर आयेंगी, ना सर पे बिठाएँगी, चलाको !

    http://www.youtube.com/watch?v=6j2L_BKawy8&feature=player_embedded

    http://www.youtube.com/watch?v=HRnbmQYAIp0&feature=player_embedded


    Once again i salute you lady. Specially for those two incidents.

    ReplyDelete
  31. लवली दीदी की बातों से सहमती लड़कियां ऐसे मौकों पर हमेशा गलत हो जातीं हैं घर वाले भी उन्हें ही जिम्मेदार ठहराते हैं....

    ReplyDelete
  32. bahut achhe...
    jis pida ko apne shabdon men dhala hai..
    wah is desh aur samaj ki sabse gandi haqiqat hai..
    apr apka sahas vandniya hai..

    ReplyDelete
  33. Bahut Badhiya Laga Aapki Is Rachna Ko Padhkar, Very Nice..

    ReplyDelete
  34. मुझे लगता है कि लडकों को जिस तरह पाला जाता है, उन्हें यही लगता है कि लडकी कोई अज़ूबा है, और यही अजूबा होना उनका, साथ में उनका दबा शैतान, और साधारणतः सेक्स का टैबू होना सब का मिलाझुला असर है।

    लेकिन सबसे बडी गल्ती उन माँओं की है जो लडकों को कभी घर का और रसोई का काम करने नहीं देतीं और लडकियों को ही इन सब कामों में लगाती हैं। बचपन से ही लडकों को लगता है कि वो कुछ स्पेशल हैं।

    अगर बचपन से ही सेंसिटाइज़ किया जाये, तो लडकों का बर्ताव बदलेगा। मेरे ख्याल से हमें अपनी लडकियों को तो वीर बनाना ही है, मगर लडकों को भी बहुत सारी तमीज़ सिखानी है।

    ReplyDelete
  35. अभी कल ही अपनी एक महिला मित्र से कुछ इसी तरह की बात हो रही थी. बिल्कुल उसी तरह जिस तरह आपने कही. यह गुस्सा जायज़ और ज़रूरी है. रोष महत्वपूर्ण है.

    ReplyDelete
  36. बहुत अच्छा काम करा था

    मैंने मेरी छोटी बहन को पूरी छूट दी हुई थी की अगर कोई परेशान करे तो खींच कर थप्पड़ मार देना बाकी मारने का काम मै कर लूँगा

    पढ़ कर बहुत अच्छा लगा की आपने अपने आप को मजबूत बनाया

    दूसरी बात जो आपने कही की कपड़ो के नाम पर ऐसा वर्गीकरण करना तो वो भी गलत है ये इंसान की अंदुरनी भावनाये होती है जो कपड़ो को गलत या सही बनाते हैं कपडे नहीं

    ReplyDelete
  37. अजी इन्हें खतामाफी दे दीजिये. . .
    आखिर ऋषि मुनियों की संतान हैं ये . . .
    महान देश भारत के महान सपूत हैं. . .
    गीता, रामायण और कुरआन की रोशनी में इनकी परवरिश हुई है. . .
    ०००
    हमारी समझ इतनी ही है कि
    हम अपने बच्चों की परवरिश करते हुए. . .
    लडको की गुस्ताखी को नज़रंदाज़ करते जाते हैं. . .
    और लड़कियों को गुस्ताखी झेल जाना सिखाते हैं. . .
    ०००
    आदम के ज़माने से अब तक
    हमारी दुनिया इतनी समझदार या सुन्दर हुई ही नहीं
    कि. . .पुरूष और स्त्री एक दूसरे का सम्मान कर सकें . . .
    एक दूसरे को समान समझ सकें. . .
    ०००
    कुछ दिनों के लिए निजाम बदल के देखिये. . .
    दुनियाँ खूबसूरत होने को है. . .

    ReplyDelete
  38. Bahut Badhiya Laga Aapki Is Rachna Ko Padhkar, Very Nice..

    ReplyDelete
  39. हमारे साथ भी एक लड़की है देखने में भी सुंदर
    उसके हाथ से भी दो मार खा चुके है |
    मगर सोचना पड़ता समाज में आगे
    हमारी बेटियाँ कैसे आगे बढेंगी }

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...