18 December, 2008

तुम

इक दुआ सी कैसी
कल शाम तेरी याद आई
कि जिंदगी फ़िर से...जिंदगी लगने लगी

एक लम्हे को छुआ जब
तेरे लबों की तपिश ने
बादलों में फ़िर से...आग सी लगने लगी

तनहाइयों के घर में
डाले थे कब से डेरा
तेरा नाम लिया जैसे...चहलकदमी होने लगी

टूटा हुआ था मन्दिर
रूठे थे देव सारे
जिस दिनसे तुझे माँगा...फ़िर बंदगी होने लगी

तुम सामने हो कब तक
यूँ होश सम्हालें हम
एक नज़र ही देखा...दीवानगी होने लगी

मर ही गए थे हम तो
यूँ तुमसे दूर रह कर
तुम आ गए हो फ़िर से...जिंदगी होने लगी

20 comments:

  1. सुन्दर रचना है।बधाई\

    ReplyDelete
  2. achhi rachna..
    aapki sari kavitayen bahut achhi hoti hain...
    'तुम्हारे बिना' was also good

    ReplyDelete
  3. टूटा हुआ था मन्दिर
    रूठे थे देव सारे
    जिस दिनसे तुझे माँगा...फ़िर बंदगी होने लगी

    बहुत बढिया।

    ReplyDelete
  4. "इक दुआ सी कैसी
    कल शाम तेरी याद आई
    कि जिंदगी फ़िर से...जिंदगी लगने लगी"

    वाह, सच है, किसी कि याद भी जिन्दगी रौशन कर जाती है। बहुत सुन्दर लिखा है आपने।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर...सुन्दर....सुन्दर...

    ReplyDelete
  6. मर ही गए थे हम तो
    यूँ तुमसे दूर रह कर
    तुम आ गए हो फ़िर से...जिंदगी होने लगी


    क्या खूब ? आज तो लाजवाब रचना है !

    राम राम !

    ReplyDelete
  7. एक लम्हे को छुआ जब
    तेरे लबों की तपिश ने
    बादलों में फ़िर से...आग सी लगने लगे

    खूब डट कर लिखो मुझे उम्मीद है कि और भी अच्छा होगा प्यार पर भी लिखो मगर आज़मा के देखो कभी प्यार से हटकर लिखो। आपकी ये बात बेहद अच्छी लगी कि आप नियमों के साथ चलती हैं।

    ReplyDelete
  8. "टूटा हुआ था मन्दिर
    रूठे थे देव सारे
    जिस दिनसे तुझे माँगा...फ़िर बंदगी होने लगी"

    किसी के प्रति अनुरक्ति स्वतः ही ईश्वर की तरफ़ उन्मुख कर देती है, और फ़िर जब ईश्वर उस अनुरक्ति को आत्मसात करने का गहरा भाव हमारे भीतर भर देता है, तब वह अनुरक्ति ही ईश्वरत्व का रूप हो जाती है .

    रचना के लिये धन्यवाद.

    ReplyDelete
  9. गहराई तक अपना असर छोड़ती ..........एक सुंदर सी कविता.

    राजीव महेश्वरी

    ReplyDelete
  10. मर ही गए थे हम तो
    यूँ तुमसे दूर रह कर
    तुम आ गए हो फ़िर से...जिंदगी होने लगी

    bahut sundar.. bahut din baad purani pooja ji dikhi :-)

    ReplyDelete
  11. काफ़ी रूहानी है..

    ReplyDelete
  12. तुम आ गए हो फ़िर से...जिंदगी होने लगी

    दिल छु देने वाली लाइन

    ReplyDelete
  13. थोड़ा सा रूमानी हो गये .......आज तो आप

    ReplyDelete
  14. Kal raat me hi dekha tha, magar na to padha aur na hi tipiyaya.. kyonki kal padhta to vo mahsoos nahi karta jo abhi kar raha hun.. kal kahani jaise padhta aur abhi kavita ko mahsoos kar raha hun.. shbdon ka anokha khel sajaya hai tumne..

    comments padhne ke baad "Thoda sa rumani ho jaaye" cinema yaad aa raha hai.. :)

    ReplyDelete
  15. जिंदगी होने लगी..bahut khuub..

    ReplyDelete
  16. कुछ पंक्तियां तो बेहद अच्छी बन पड़ी हैं खास कर टूटा हुआ था मन्दिर
    रूठे थे देव सारे
    जिस दिनसे तुझे माँगा...फ़िर बंदगी होने लगी

    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  17. बहुत अच्छा है.

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...