22 April, 2011

ज़ख्म अब तक हरे हैं

तुम्हें सच में नहीं दिखते?
दायें हाथ की उँगलियों के पोर...नीले हैं अब तक
ना ना, सियाही नहीं है...माना की लिखती हूँ 
पर अब तो बस कीपैड पर ही 

तुम भूल भी गए फिर से
तुम्ही ने तो मेरी पेन का निब तोड़ा था 
मुझसे अब कभी नहीं मिलना
कह कर, आखिरी वाले दिन 

तुम क्यूँ पकड़ा करते थे मेरा हाथ
क्लास में डेस्क के नीचे, तुम्हें पता है 
एक हाथ से नोट्स कॉपी करने में
उँगलियों के पोर नीले पड़ जाते थे 

गर्म दोपहरों में, पिघला डेरी मिल्क 
उँगलियाँ झुलसा देता था
इतना तो तवे से रोटियां उतारते
हुए भी कभी नहीं जली मैं 

मेरे हाथ से फिसलती तुम्हारी उँगलियाँ
तराशी हुयी, किसी वायलिन वादक जैसी 
छीलती चली गयीं थीं मेरी हथेलियों को 
लगता था बचपन है, चोट लगने वाले दिन हैं 

आज डायरी पढ़ रही थी, २००३/४/5 की
उँगलियाँ फिर से सरेस पर रगड़ खा गयीं 
पन्ने लाल होने लगे तो  जाना 
उँगलियों के ज़ख्म अब तक हरे हैं 

24 comments:

  1. ऐसे जख्म सबको मिले और हमेशा हरे रहें..:-)

    ReplyDelete
  2. आपको पढ़ना खुशबू को महसूस करने जैसा है। कोई पूछे कैसा लगा तो बस इतना कहा जाय...बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete
  3. कहाँ से लाती हो इतना दर्द....कहाँ से..??
    क्या मेरे कुछ बीते हुए दिनों को चुरा लिया है...... तुमने पूजा ?
    ज़ख्म अब तक हरे हैं.....नहीं-नहीं.......येः तो समय के साथ-साथ नीले और कुछ-कुछ काले से हो गए हैं......
    पर येः पीले-काले से निशान शरीर को कुरूप क्यूँ नहीं बनाते ....?

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. kisi ne theek kaha h.. वियोगी होगा पहला कवि,आह से उपजा होगा गान,
    उमड़कर आखों से चुपचाप,बही होगी कविता अनजान.

    Aaj ye lines yaad dila di aapki kavita ne :)

    ReplyDelete
  6. अगर मोनाली को यह याद आया - "वियोगी होगा पहला कवि " तो मुझे डेस्क ने नीचे हाथ पकड़ने से गुलज़ार का सूर्यग्रहण पर लिखी नज़्म याद आई...

    "
    कॉलेज के रोमांस में ऐसा होता था/
    डेस्क के पीछे बैठे-बैठे/
    चुपके से दो हाथ सरकते
    धीरे-धीरे पास आते...
    और फिर एक अचानक पूरा हाथ पकड़ लेता था,
    मुट्ठी में भर लेता था।
    सूरज ने यों ही पकड़ा है चाँद का हाथ फ़लक में आज।।"

    तुम्ही ने तो मेरी पेन का निब तोड़ा था


    गर्म दोपहरों में, पिघला डेरी मिल्क, उँगलियाँ झुलसा देता था

    "मेरे हाथ से फिसलती तुम्हारी उँगलियाँ
    तराशी हुयी, किसी वायलिन वादक जैसी
    छीलती चली गयीं थीं मेरी हथेलियों को
    लगता था बचपन है, चोट लगने वाले दिन हैं

    और...
    पन्ने लाल होने लगे तो जाना, उँगलियों के ज़ख्म अब तक हरे हैं

    एक तराजू लिया है आजकल, तौल रहा हूँ, कौन इश्क को बेहतर जीता है. दावा फिलहार बराबर का है. बचपन में तोता मैंने की कहानी पढ़ी थी, तब भी यही दावा था. खैर..

    यहाँ, यह सब बहुत सुन्दर लिखा है.

    ReplyDelete
  7. तस्वीर बदल दीजिये पूजा जी - इस नीले जाम का जहर जाने कितनी नीली उँगलियों वालियों को डूबने खींचेगा!!!!

    ReplyDelete
  8. याद किसी ठहरे पानी जैसी..उतरे तो गहरायी पता चले..

    आस्मां भी नीला आपकी उँगलियों के स्पर्श से तो नही हुआ:)

    ReplyDelete
  9. नज़्म तो ख़ैर अच्छी है ही.. पर हमारा दिल तो ये ब्लॉग हेडर की फोटो और टैग लाइन ले गये :)
    " आसमाँ सिमट कर, दो घूंट बन गया है... पैमाने से पूछो उसने क्या जिंदगी जी है! " वाह !!!

    ReplyDelete
  10. गर्म दोपहरों में, पिघला डेरी मिल्क
    उँगलियाँ झुलसा देता था
    इतना तो तवे से रोटियां उतारते
    हुए भी कभी नहीं जली मैं kya khub likha hai lagta hai dairy milk ka agla add yahi hoga

    ReplyDelete
  11. विज्ञापन की कापी की तरह बहुत ही सोफ्ट कविता..

    ReplyDelete
  12. बेहद प्रभावशाली और मन को छूने वाली कविता।

    ReplyDelete
  13. कविता की नीलिमा, ब्लॉग के बदले रूप में गूंज रही है।

    ReplyDelete
  14. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (23.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:-Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  15. maulikata rachanadharmita ki aadhar- shila hoti hai ,jo mujhe pratit huyi .
    badhayi sunder srijan ke liye .

    ReplyDelete
  16. ऐसे जख्म हमेशा याद रहते है| खुबसूरत अहसास और उनकी अभिव्यक्ति बधाई ....

    ReplyDelete
  17. नीले असमान पर सफ़ेद पाखी की तरह उड़ती हुई कविता ...
    सुंदर अभिव्यक्ति ...!!

    ReplyDelete
  18. भावुक...सुन्दर...मर्मस्पर्शी भावाभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  19. लगता है विषपान किये नीलकंठ को कहीं महसूस कर रहीं हूं ......

    ReplyDelete
  20. waah bahut khub likhti hai aap...pehli baar padh rahi hu aapke blog ko...lekin ab baar baar padhungi...aesa hi hota hai kabri kavi kuchh jakham hare rehte hai...or yaade to bani hi hai yaad aane ke lie....ajib si baat hai ki meri kabita me bhi aaj yaado ko hi sameta hai maine....bhut sundar...

    ReplyDelete
  21. स्मृति में किसी का आना और उसका इस तरह का वर्णन कि पढ़नेवाला खुद की अंगुलियों को देखने लगे...अपने में बांध लेनेवाली सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  22. दर्द की गहराइयों से लिखी हुई रचना....

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...