30 May, 2009

शुक्रिया जिंदगी


आजकल तुमपर इतना प्यार आता है कि कुछ लिख ही नहीं पाती...काश तुम्हारी मुस्कान थोड़ी कम दिलकश होती, गालों पर पड़ते ये खूबसूरत गड्ढे नज़र नहीं आते, आँखें यूँ शरारत से नहीं मुस्कुरातीं

हर सुबह ऑफिस जाना कितना मुश्किल हो जाता है जब तुम्हें उनींदा सा दरवाजे पर देखती हूँ...बिना सुबह की चाय पिए तुम्हारी आँखें ही नहीं खुलतीं...मेरा भी आधा घंटा और सोने का मन करने लगता है

और वो कमबख्त लिफ्ट...इतनी जल्दी क्यों आ जाती है....वक्त थोड़ा धीरे क्यों नहीं बीतता सुबह

__________________________

घर का ताला खोलकर अंधेरे घर में कदम रखना, ट्यूब जलना...जो भुक भुक करके कितनी तो देर में जलती है, मुझे कभी भी बल्ब जलने का मन क्यों नहीं करता...वो खूबसूरत झूमर जो हॉल में लगा hai कभी तो उसकी बत्ती जलाऊं, बिजली बचने की चाह कभी उतने सारे बल्ब जलाने ही नहीं देती तुम कैसे इतने आराम से आते ही सीधे झूमर ऑन कर देते हो...जब भी तुम्हारे बाद घर आती हूँ तो लगता है किसी परियों वाले महल में गई हूँ

तुम्हारे साथ खाना खाना कितना अच्छा लगता है...और तुम हो भी इतने अच्छे कि कुछ भी बनाऊं उतनी ही खुशी से खाते हो, वो भी तारीफ़ कर कर के। साथ खाने से प्यार बढ़ता है...ऐसा भी लोग कहते हैं

बस तुम्हारे होने भर से, जिंदगी कितनी खूबसूरत हो गई है...कितने रंग, कितनी खुशबुयें और कितने ख्वाब...

मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ...मेरी जिंदगी में यूँ ही चले आने का शुक्रिया

27 comments:

  1. haay haay ham to mar mite jee, daagdar saahibaa, ....kitti pyaar mohabbat kee baatein likh dee aapne....ab pure weekend romantic rahegaa mood....

    ReplyDelete
  2. ५ दिन बिजली बचा लो,
    और एक दिन झुमर भी जगमागा दो!!

    ्बहुत प्यारी पंक्तियां...

    ReplyDelete
  3. How simple and beautiful :) awesome post

    ReplyDelete
  4. Subaha ki neend to sabko bahut pyari hoti hai... "Bas 5 min aur..." jaise isi 5 min main saari neend poori ho jayegi.... :)

    Bahut sundar.....

    ReplyDelete
  5. गालिब का मगर है अंदाजे बयां और!!

    वाकई!!

    बेहतरीन पीस ऑफ इन्नोसेन्ट इज़हार-ए-मोहब्बत!!

    ReplyDelete
  6. अन्दाज ही लगा सकते हैं हम कि खाना बहुत ही स्वादिष्ट होता होगा।

    ReplyDelete
  7. @gyan ji...aap sadar aamantrit hai hamare ghar par, khana khane ke liye...swadisht khane ka maza andaaja lagane me nahin, khane me hai :)

    ReplyDelete
  8. बहुत बेहतरीन.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. प्रेम की अनुभूति अत्यंत सुखद होती है.....जीवन में सभी किसी न किसी रूप में प्रेम अवश्य करते है....ब्लॉग अच्छा लगा.....
    सुबह उठने वाली बात भी सही है......सारी रात की नींद एक तरफ और वो १० मिनट एक तरफ.....

    साभार
    हमसफ़र यादों का.......

    ReplyDelete
  10. जय हो। ऐसा आपै लिख सकती हैं डा.साहब। हम तो खड़े के खड़े रह गये की तर्ज पर बैठे के बैठे ही रह गये पढ़ते-पढ़ते। शानदार!

    ReplyDelete
  11. As you sow so shall you reap.
    In love-
    1+1=2,1+1= 11,1-1=0,1*1=1,1/1=0,
    you are 1+1=11.lovely sense of expession of your love.congrets.

    ReplyDelete
  12. गुद गुदी होने लगी बुढापे में!

    ReplyDelete
  13. फोटो में विद्यमान ये दोनों विभूतियाँ हमारे घर में ऐसे ही पास पास बैठी हैं एक बार तो लगा कि आप को ये फोटो कैसे मिल गयी

    ReplyDelete
  14. puja,
    jindgi ko apni lekhni se ek shakl dena.....bahut achchha lagta hai....lagta hai jaise apni hi jindagi hai...waah...

    ReplyDelete
  15. Bommarillu dekhke uthe(3rd time) aur fir ye romantic post....maahol roomani ho gaya :)

    ReplyDelete
  16. तुमने जाने क्या लिखा...हमें तो पूरी शायरी नजर आयी है ये पोस्ट

    ReplyDelete
  17. अद्भुत शायराना अंदाज़!

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर पोस्ट है। जीवन यूँ ही चलता रहे, महकता रहे।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  19. पूजा जी बहुत ही बेहतरीन अंदाज होता है आपके लिखने का अति बेहतरीन बहुत ही सुंदर भाव

    ReplyDelete
  20. इस खूबसूरती से प्यार का माहौल बयाँ किया है आपने कि आपकी इस प्यार भरी जिंदगी से प्यार हो जा रहा है।

    ReplyDelete
  21. pata nahi kyu itni achchi post padhne k baad bhi romantic feeling nahi aayi....jab ki hum to ek gaana sun k bhi romantic ho jaate hai...
    shayad waqt kharab chal raha hai...
    talaash hai hume bhi in palo ki...

    ReplyDelete
  22. जैसी होनी चाहिये वैसी नही है फिर भी मिठास हैं

    ReplyDelete
  23. ufff.... yeh meethe ras mein bheege pal...kuch tumhare neh se page pal.... in choti choti jhirriyon se zindagi mein khushi bas yun hi chali aati hai.... umda likha hai !

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...