11 February, 2010

आधा दिन और तीन जिंदगियाँ


एक हलकी नीली शाम, बादलों के कुछ टुकड़े
आधे दिन में दो जिंदगियां पढ़ी
"रसीदी टिकट" और "सूरज का सातवाँ घोडा"
कुछ वाक्य बादलों की तरह आसमान में उड़ रहे थे

और मैं एक सरफिरे कवि से बात कर रही थी
जिसे शब्दों को सुघड़ बनाना नहीं आता
वो अगर चित्र बनाता तो यक़ीनन
उसके कपड़े भी उसके कैनवास का हिस्सा होते

एक ही दिन मंटो की १९ कहानियां पढ़ीं
उसे बताया तो उसने पूछा, कैसी लगी
कोई उसे समझाए कि कैसे पढ़ सकता है कोई
लगातार उन्नीस खराब कहानियाँ

शायद उसे लगता होगा वैसे ही
जैसे इस हाद्सातों भरी जिंदगी में
एक कवि जिन्दा रहता है
कहता है "बोलती हो तो लगता है कि जिन्दा हो"

नहीं जानती तो सोचती
कि किस मिट्टी का बना है वो
ऐसी तपी हुयी कवितायेँ लिखता है
पढ़ने में आंच आती है

शायद ऐसी मिट्टी बिहार की ही हो सकती है
गंगाजल से सनी, जिंदगी की भट्ठी में झोंकी गयी
मूरत की भी जबान सलामत और तेज
जिसके लिए सत्य का सुन्दर होना अनिवार्य नहीं

कमरे में जलती तीन मोमबत्तियां
सांझ दिए गए धूप की महक
डूबे हुए सूरज का थोड़ा सा टुकड़ा
और राहत की साँस कि "सोच को मरने नहीं दिया जाएगा "

24 comments:

  1. कमरे में जलती तीन मोमबत्तियां
    सांझ दिए गए धूप की महक
    डूबे हुए सूरज का थोड़ा सा टुकड़ा
    और राहत की सांस कि "सोच को मरने नहीं दिया जाएगा "

    ---बहुत ही खुबसूरत रचना

    ReplyDelete
  2. असाधारण शक्ति का पद्य, बुनावट की सरलता और रेखाचित्रनुमा वक्तव्य सयास बांध लेते हैं, कुतूहल पैदा करते हैं। आपका सत्य से साक्षात्कार दिलचस्प है। रचना दृष्टि की व्यापकता के चलते हर वर्ग में लोकप्रिय होगी।

    ReplyDelete
  3. शब्दों और भावनाओं का एक बेहतरीन ताल मेल...सुंदर रचना..

    ReplyDelete
  4. सोच को सच में मरने नहीं दिया जायेगा.१९ कहानिया खराब सही पर जाया नहीं गयी,
    इक कविता की कोपल फूटी तो सही.

    ReplyDelete
  5. वाह .... रसीदी टिकट की ज़िंदगी पूरे फलक पर फैली हुई है...

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. ऐसी तपी हुयी कवितायेँ लिखता है
    पढ़ने में आंच आती है

    ...यह पढ़ कर तो दुष्यत कुमार याद आये

    "मेरे सीने में ना सही तेरे सीने में सही
    कहीं भी हो आग लेकिन आग जलनी चाहिए"

    इसी पर एक और...

    "सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं
    मेरी खवाहिश है की सूरत बदलनी चाहिए"

    ReplyDelete
  8. ये जो लिखा है- चौथी मोमबत्ती है
    ..
    .
    .
    .
    .
    क्या अब मैं अपना जन्म सार्थकता की ट्रैक पर मान सकता हूँ ? समस्या यह है कि तुम्हारी दृष्टि उत्तम है.... जरा समझाओ तो क्या ये समस्या है ?

    ReplyDelete
  9. कोई पन्ना .कोई ख्याल जाया नहीं जाता....अगर सफ्हे पर ना भी आये .....तो जेहन के किसी गली कूंचे में पड़ा रहता है .....

    ReplyDelete
  10. मैं इधर बैठा गहरी साँस ले रहा हूँ और सोच रहा हूँ कि क्या लिखूं टिपण्णी में .

    ReplyDelete
  11. तुम और तुम्हारे शब्द पल - पल निखर रहे हैं ..
    सच!
    "बोलती हो तो लगता है कि जिन्दा हो"

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    इसे 13.02.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह ०६ बजे) में शामिल किया गया है।
    http://chitthacharcha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  13. shaanadaae rachanaa
    http://sharatkenaareecharitra.blogspot.com/

    ReplyDelete
  14. kavi jab chitr banata hai to uska canvas pathakon ka man hota hai jispar bikher deta hai wo dher sare rang, jindgi ke rang, mahsoos kie rang. yakinan soch ko marne nahi dia jayega ! behad khoobsoorat kavita aur shaandaar bunavat. roman me likhne ke lie muaafi chaahunga mobile par transliteration nahi hai na

    ReplyDelete
  15. jeevant ..adhbhut ...aur aascharyajanak roop se SATYA !!

    ReplyDelete
  16. bolti rahna hume bhi ahsaas rahega ki zinda ho.... :)

    bahut hi pyari rachna..

    ReplyDelete
  17. कमरे में जलती तीन मोमबत्तियां
    सांझ दिए गए धूप की महक
    डूबे हुए सूरज का थोड़ा सा टुकड़ा
    और राहत की साँस कि "सोच को मरने नहीं दिया जाएगा "
    Bahut sundar panktiyan!

    ReplyDelete
  18. sorry to say par mujhe kisi v angle se laga hi nhi ki ye kavita hai..
    ye kavita ki koi nayi vidha to nhi..?
    ar iske arth to kuchh samajh me hi nhi ate hain..

    ReplyDelete
  19. बहुत खूबसूरत!

    ReplyDelete
  20. कविता सुन्दर और मर्मस्पर्शी है ।

    ReplyDelete
  21. अच्छा तो ये बात है..

    ReplyDelete
  22. Thanks for sharing this poem in buzz... :-)

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...