06 April, 2009

दिल ढूंढता है...फ़िर वोही फुर्सत के रात दिन...

जाने कब तक याद करती रहूंगी उस दिलरुबा दिल्ली को...कि जिसकी पेंचदार गलियों में हम उफ्फ्फ अपना दिल दे बैठे।

जिंदगी की सबसे खूबसूरत यादें किसी कैमरा में कैद नहीं हो सकती...उन्हें दिल से लगा के रखना पड़ता है...उनकी खुशबू किसी अल्फाजों के तिलिस्म में बंधने को तैयार ही नहीं होती.

मुझे जाने क्यों रात हमेशा बड़ी प्यारी और खूबसूरत लगती है...उसपर दिल्ली की वो सर्द कोहरे वाली रातें। इंडिया गेट पर दोस्तों के साथ देर रात बैठ कर अपने स्कूल या कॉलेज के किस्से बयान करना...आहा वो काला खट्टा वाला बर्फ का गोला खाना, उफ़ वो स्वाद भला मैक डी के आइसक्रीम में आएगा कभी। बैलून खरीद कर सबके साथ खेलना, मारा पीटी करना...रेस लगाना और वो टूटे फूटे गानों के साथ अन्त्याक्षरी खेलना...वो गाने जो किसी फ़िल्म के नहीं, वो बोल जो किसी गीतकार ने नहीं लिखे...वो चाँद गाने जो दिल की धड़कनों से उठते थे...वो खोये हुए बोल...वो गुमी हुयी धुनें।

रास्ते भर कार में बजती वो गजलें या कोई शोर शराबा सा पंजाबी गीत...और हाँ उन दिनों...तारे ज़मीन पर का गाना कितना सुना था...तू धूप है...छम से बिखर, तू है नदी ओ बेखबर...अब भी कहीं भी ये गाना बजते सुनती हूँ तो मन उसी nh8 पर पहुँच जाता है। कमबख्त ये दिल्ली पीछा छोड़ती ही नहीं, कहीं भी जाओ।

वो दिन जब आधे दोस्तों की प्रेमकहानी में कोई ना कोई ट्विस्ट चल रहा था, और हम सब मिल कर उपाय ढूंढते रहते थे...वो दिन जब दोस्ती सबसे कीमती चीज़ होती थी दुनिया में और वो चंद लम्हे दिन भर की थकान उतारने का सबब।

पंख लगा के उड़ने वाले वो दिन...जब जिंदगी का नशा हुआ करता था और खुशियाँ सर चढ़ कर बोलती थीं...जब किसी की एक नज़र का खुमार हफ्तों नहीं उतरता था...जब आइना किसी भी हालात में आपपर मुस्कुराता था...जब कुछ भी पहन लो आखों में खिलखिलाहट होती थी।

उफ्फ्फ्फ्फ्फ

दिल्ली तेरी गलियों का...वो इश्क याद आता है

37 comments:

  1. जिंदगी एक दौड़ है । दौड़ना है । अपने से ही जीतना है । अपने से ही हारना भी है । जिंदगी का सबसे बड़ा रहस्य तो यही है ,जिसे हम जान नही पाते । .........

    ReplyDelete
  2. इस भागदौड़ भरी जिंदगी में कभी फुर्सत मिले तो सोचे न इन सब चीजो के बारे में.......

    आजकल तो ऐसा है की जो बीत गयी सो बात गयी .........

    ReplyDelete
  3. मैंने भी महसूस किया है दिल्ली की गलियों का वो इश्क

    ReplyDelete
  4. जीवन चलायमान जो है.

    ReplyDelete
  5. दिल्ली पीछा छोड़ती ही नहीं ।

    ReplyDelete
  6. जौक ने भी कहा है न - कौन जाए जौक ये दिल्ली की गलियाँ छोड़कर
    हमारी दिल्ली तो है ही ऐसी, बिना किसी का जात, धर्म, पेशा देखे सबको गले लगाती है.
    और दिल्ली में भी खासकर कॉलेज के बिताए गए दिनों का तो क्या कहना.
    हमारे जेएनयू में तो कई लोगों को इन पलों के मोह ने इतना मारा कि पीएचडी करके यहीं चाय बेचने लगे.

    विश्वास न हो तो यहाँ देख लें - www.bbc.co.uk/hindi/entertainment/story/2006/08/060805_phd_dhabha.shtml

    ReplyDelete
  7. BAHOT BADHIYA TARIKE SE AAPNE BAANDHA HAI IS SASMARAN KO... HAAY YE DILLI... ISKI PECHDAAR GALION ME HAM BHI APNA DIL KHO BAITHE HAI...


    ARSH

    ReplyDelete
  8. ये सब दिल्ली के पानी का असर है। जो अपने पास बार बार बुलाता है।

    ReplyDelete
  9. दिल्ली तो साडी दिल्ली है .कहाँ जाए ..इसको छोड़ कर अब :) दिल्ली की हवा दिल वाली है इस लिए याद आती है बार बार :)

    ReplyDelete
  10. मेरे पास ऐसी यादे तो नही है पर आपकी यादो ने मुझे उस तिलिस्म मे झाकने का मौका जरुर दिया है ........ अच्छी यादे है..........जो पुरी तरह से अपनी है जिसमे कोई बनावट नही है........

    ReplyDelete
  11. फुर्सत को तो देखे अर्सा हो गया। अब तो न रंग याद रहा न महक!

    ReplyDelete
  12. वैसे तो हर आदमी की एक दिल्ली होती है जो कभी उसका पीछा नहीं छोड़ती पर आपकी दिल्ली याद रहेगी.

    ReplyDelete
  13. ऐसा हर किसी के साथ होता है
    जिंदगी के वो चंद लम्हे , वो बेशकीमती लम्हे जब दिल आजाद होता है , जहाँ भी गुजार लिए जाते हैं हमेशा हमेशा के लिए जेहन में बस जाते हैं
    आपकी यादें पढ़ कर वो गाना याद आ गया
    बीते हुए लम्हों की कसक साथ तो होगी

    ReplyDelete
  14. शायद इसीलिये दिल्ली दिल वालों की है? वो भी एक दौर था.

    रामराम.

    ReplyDelete
  15. शायद इसपे ही किसी ने कहा है... "उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो, ना जाने किस गली ज़िन्दगी की शाम हो जाए."

    ReplyDelete
  16. नोस्टाल्जिया छोटी छोटी बातों को कीमती बना देता है ना।

    ReplyDelete
  17. सुंदर अभिव्‍यक्ति।

    ReplyDelete
  18. दिल्ली तेरी गलियों का...वो इश्क याद आता है

    ये एक लाइन ही कितनी बाते कह जाती है..

    ReplyDelete
  19. खूबसूरत रोमानी यादें।

    ReplyDelete
  20. baithey rahey tassavurey jaanaa kiye hue :)

    ReplyDelete
  21. ये इश्क दिल्ली का या किसी शहर का नहीं है डा. साहिबा.. ये इश्क है अल्हड़पन वाले दिनों का.. जब हम बिना किसी बात के दोस्तों से लड़ते थे, फिर उसी दोस्त को मनाने के लिये जाने क्या-क्या जुगत लगाते थे और जब वो मान जाये तो हम भी रूठ जाते थे कि भला कोई हमें भी तो मनाओ.. ये इश्क है इश्क वाले दिनों का, जो किसी शहर के अनुरूप नहीं होता है.. वो इश्क तो जिस शहर में पलता-बढ़ता है उसी शहर से हमें इश्क हो जाता है..
    उस जगह या शहर का नाम हम तुम कुछ भी दे दें.. कुछ के लिये वह दिल्ली है, कुछ के लिये पटना है, कुछ के लिये बैंगलोर तो कुछ के लिये कोई और शहर.. :)

    ReplyDelete
  22. जाने क्या-क्या खयाल करता हूं,
    जब शहर से तेरे गुजरता हूं।






















    ReplyDelete
  23. पुरानी यादें संभाल कर रखनी चाहिए जब हम उदास होते हैं तो उन यादों को याद करके मुस्‍कुरा उठते हैं
    वाकई ओल्‍ड इज गोल्‍ड

    ReplyDelete
  24. आपकी पोस्ट को पढ़कर आपके लिए मेरा अभी का लिखा शेर आपकी नज़र।
    न जीन दी सुध, न मरन दी चाह
    इह इश्क़ बड़ा है बेपरवाह
    इह वसिया मेरी रूह दे अंदर
    जो डंगदा मैनूं मेरे हर साह

    माफ़ी चाहता हूं पंजाबी हूं इसलिए पंजाबी में ही आया है ये शेर ज़हरन में। मगर है सिर्फ़ आपके लिए

    ReplyDelete
  25. या यूँ भी कह सकते हैं-" कोई लौटा दे मेरे बीते हुए दिन..." दिल्ली है ही ऐसी जगह हमारी तो सारी मधुर यादें वहीं बसी हैं यहाँ परदेस में तो बहुत ही याद आती है कहाँ यहाँ का अकेलापन कहाँ दिल वालों कि दिल्ली दोस्तों से सराबोर...

    ReplyDelete
  26. pooja G apka dyanyavad. kyoki apki post padhkar ek sher bana aur usne ek rachna ka roop le liya.

    ReplyDelete
  27. बात जगह की नहीं होती,स्थान विशेष पर समय विशेष में अपनों का साथ स्थान और समय को विशेष बना देते हैं....
    उसी जगह पर वर्षों बाद बिना उन अपनों के जाकर देखें....सब कुछ कितना नीरस लगेगा...

    ReplyDelete
  28. sach kahoon to dilli se meri buri yaadein zyaada aur meethi yaadein kam judi hai..par fir bhi ek lagaav mahsoss hota hai is sheher se...

    vaise dosto ke saath masti ke ye pal "timbaktoo' me bhi guzre to wo jagah bhi khaas lagegi :)

    ReplyDelete
  29. हम तो वैसे ही तुम्हे दिल्ली की दीवानी कहते है.....वैसे अपुन तो दो नहीं ढाई दिन के लिए उस शहर में चले ...जहाँ शायद उन दिनों की कोई धूप मिल जाए तो किसी लारी पे वो ऑमलेट पाव !

    ReplyDelete
  30. दिल्ली तेरी गलियों का...वो इश्क याद आता है
    kabhi mausam kabhi sawan
    suhana yaad aata hai.......
    Achchha likha hai aapne .
    Navnit Nirav

    ReplyDelete
  31. जिंदगी की सबसे खूबसूरत यादें किसी कैमरा में कैद नहीं हो सकती...उन्हें दिल से लगा के रखना पड़ता है...

    ReplyDelete
  32. जी.. बिल्कुल ऐसी ही है अपनी दिल्ली.. आपकी लिखावट ने दिलवालों की दिल्ली को और भी खूबसूरत बना दिया..

    ReplyDelete
  33. पूजा,
    मैनें आप का ब्लाग देखा। बहुत अच्छा लगा।
    आप मेरे ब्लाग पर आयें,यकीनन अच्छा लगेगा
    और अपने विचार जरूर दें।प्लीज.............
    मैं यहाँ एक बात बताना चाहूँगा, मैनें एक गीत
    बी०एस-सी० के दौरान लिखा था, फ़ेयरवेल पार्टी
    के लिये,मेरे दोस्त फ़ूट फ़ूट कर रो पडे़ थे.आप
    की कालेज जीवन की बातें सुनकर यादें ताज़ा
    हो गयीं।thanks......i like it.

    ReplyDelete
  34. so true nd so beautiful.... sach dilli vaisa hi hai jaisa aapne bayaan kiya... aur shayad isse bhi zyada khoobsoorat.... dilli se judaa har vyakti(phir chahe veh kitne hi chote antaraal ke liye judaa ho) use, dilli se ishk naa ho aisa ho hi nahin sakta....

    loved the way u have penned down ur love.......:)

    ReplyDelete
  35. kuch ajeeb si jageh hai dilli.. napasandgi ki wajeh hone pa rbhi yaad aati hai.....

    ReplyDelete
  36. kuch ajeeb si jageh hai dilli.. napasandgi ki wajeh hone pa rbhi yaad aati hai.....

    ReplyDelete
  37. kuch ajeeb si jageh hai dilli.. napasandgi ki wajeh hone pa rbhi yaad aati hai.....

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...