22 April, 2009

माँ मुझे अब भी प्यार करती है

सूना सा हो गया है आँचल मेरा
मैंने कहा था तुमसे
तुमने कुछ दुआएं डाल दीं

उन्हें गाँठ लगा कर सोयी थी
कल रात, सदियों बाद
मुझे नींद आई थी...

ख्वाब भी थे
बचपन की उजली मुस्कुराहटें भी
माँ भी कल आई थी दुलराने को

सुबह ख्वाब तो नहीं थे
पर दुपट्टे के कोने पर
माँ का आशीर्वाद था

गांठ में सिन्दूर के साथ बंधा हुआ
शायद कल माँ ने तुम्हारी मनुहार मान ली
और मुझे तुम्हें दे ही दिया...हमेशा के लिए.

21 comments:

  1. ख्वाब जब दस्तक देता है
    इन आँखों में
    हाँ वो माँ ही तो थी
    जो लेकर आई थी
    झोली भर कर
    ढेर सारी दुआएं

    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. बहुत गहरे भाव हैं.

    ReplyDelete
  3. माँ बिना बताये बेटी का दिल जान लेती है :-)

    ReplyDelete
  4. सुबह ख्वाब तो नहीं थे
    पर दुपट्टे के कोने पर
    माँ का आशीर्वाद था

    बहुत नाजुक यादें हैं जो खवाबों में नही होते भी खवाबों मे आती हैं. आपने बडी खूबसूरती से इन्हे शब्द दे दिये. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. एक्सीलेंट..!!

    ReplyDelete
  6. उन्हें गाँठ लगा कर सोयी थी
    कल रात, सदियों बाद
    मुझे नींद आई थी...



    कहते है हर बेटी अपनी माँ का अक्स होती है......मुझे भी इस बात से इत्तिफाक है

    ReplyDelete
  7. बकौल भवानी प्रसाद मिश्र
    मां कि जिसकी गोद में सिर रख लिया तो दुख नहीं फिर।

    आपकी कविता अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  8. सुबह ख्वाब तो नहीं थे
    पर दुपट्टे के कोने पर
    माँ का आशीर्वाद था...

    माँ का आशीर्वाद साथ ही रहता है ..अच्छी लगी यह ...

    ReplyDelete
  9. संवेदनशील रचना। कामना है कि यूं ही सृजनशील रहो।

    ReplyDelete
  10. मां हुंदी ए मां ओ दुनिया वालियो

    सुक्की थां ते धी नूं पावे
    गिल्ली थां ते आप है पैंदी

    मां हुंदी ए मां ओ दुनिया वालियो

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब.. कविता पढ़कर निःशब्द हूं..

    ReplyDelete
  12. पूजा जी,

    माँ, अपने आप में ही एक पूरी महाकाव्य होती है।
    माँ के अहसास को बहुत ही खूबसूरती से शब्दों में ढाला है, आपने।

    कविता, बहुत अच्छी है, सुकून देती है।

    बधाईयाँ,

    मुकेश कुमार तिवारी

    ReplyDelete
  13. पूजा,
    अच्छी रचना के लिये बहुत बधाई.....

    ReplyDelete
  14. मार्मिक रचना। दिल को छूती हुई रचना।
    उन्हें गाँठ लगा कर सोयी थी
    कल रात, सदियों बाद
    मुझे नींद आई थी..

    अद्भुत सी।

    ReplyDelete
  15. मां के विषय में इतना पढ़ा आजकल कि बेचारा पिता तो दरकिनार हो गया है! :(

    ReplyDelete
  16. bahut pyaari si rachnaa.... jitnaaa shensheel maa kaa dil hotaa hai naa , utnaa hi pyaar aapne apne shabdon mein daal diyaa........:)

    ReplyDelete
  17. great poem. sach me mamta shaswat aur ekroop hai. eswar ka sabse bada uphar hai maa

    ReplyDelete
  18. sorry!
    is kavita se mujhe kuchh kuchh gulzaar ki ek poem yaad aa gayi.. ''sarhad paar se''
    mera ek friend aksar sunaya karta tha..

    haan waise vichar aapke apne hain....

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर भाव पूर्ण रचना है। बधाई।

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...