15 July, 2009

दरमयां

दरमयां
हमारे तुम्हारे...एक ख्वाब है...पलकों पर ठहरा हुआ
देखो ना, अरे...क्यों यूँ फूंक मार कर उड़ा रहे हो
क्या बच्चो की तरह इन पर यकीन करते हो

दरमयां
एक राज़ सा है...तुमसे छुपाया हुआ मैंने
इश्क के हद की गहराइयाँ भला बताते हैं किसी को
तो तुम्हें कैसे बता दूँ कितना प्यार है

दरमयां
कुछ शब्द हैं, कुछ कवितायें तुम्हारी
जो लिखते नहीं हो तुम और पढ़ती नहीं हूँ मैं
पर जानती हूँ मैं और ये जानते हो तुम

दरमयां
वक्त है, खामोशी है...हमारा होना है
फ़िर भी...दरमयां कुछ भी नहीं है...
क्योंकि होना तो हमेशा से है...और हम भी

27 comments:

  1. वाह!! बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छा लिखा है आपने । भावपूर्ण विचारों की कलात्मक अभिव्यक्ति सहज ही प्रभावित करती है । भाषा की सहजता और तथ्यों की प्रबलता से आपका शब्द संसार वैचारिक मंथन केलिए भी प्रेरित करता है।

    मैने अपने ब्लाग पर एक लेख लिखा है-शिवभक्ति और आस्था का प्रवाह है कांवड़ यात्रा-समय हो तो पढ़ें और कमेंट भी दें-

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. कुछ शब्द हैं, कुछ कवितायें तुम्हारी
    जो लिखते नहीं हो तुम और पढ़ती नहीं हूँ मैं
    पर जानती हूँ मैं और ये जानते हो तुम

    bahut hi sunder ehsaas

    ReplyDelete
  4. दरमयां
    एक राज़ सा है...तुमसे छुपाया हुआ मैंने
    इश्क के हद की गहराइयाँ भला बताते हैं किसी को
    तो तुम्हें कैसे बता दूँ कितना प्यार है

    वाह। भावपूर्ण अभिव्यक्ति।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    ReplyDelete
  5. दरमयां
    कुछ शब्द हैं, कुछ कवितायें तुम्हारी
    जो लिखते नहीं हो तुम और पढ़ती नहीं हूँ मैं
    पर जानती हूँ मैं और ये जानते हो तुम

    Bahut badhiya hai..

    ReplyDelete
  6. दरम्यान,
    उनके और हमारे , कोई लकीर ,
    खींची है शायद , की अक्सर ,
    उस छोर पर वे , और इस पर हम होते हैं...

    डाक्टर साहिबा..अंदाज दिलचस्प है,,और शैली कातिल..

    ReplyDelete
  7. दरमयां
    वक्त है, खामोशी है...हमारा होना है
    फ़िर भी...दरमयां कुछ भी नहीं है...
    क्योंकि होना तो हमेशा से है...और हम भी

    बेहद नायाब रचना. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. फिर से एक सुन्दर रचना बैशक कई दिनों के बाद।
    दरमयां
    कुछ शब्द हैं, कुछ कवितायें तुम्हारी
    जो लिखते नहीं हो तुम और पढ़ती नहीं हूँ मैं
    पर जानती हूँ मैं और ये जानते हो तुम

    गहरी बात सुन्दर शब्द। बहुत ही उम्दा।

    ReplyDelete
  9. दरमयां ये इश्क और मोहब्बत की बातें ...हमें बहुत मीठी लगीं

    ReplyDelete
  10. दरमयां
    एक राज़ सा है...तुमसे छुपाया हुआ मैंने
    इश्क के हद की गहराइयाँ भला बताते हैं किसी को
    तो तुम्हें कैसे बता दूँ कितना प्यार है


    बहुत खूब पूजा जी....!

    ReplyDelete
  11. बेहद खूबसूरती के साथ लिखी रचना.

    ReplyDelete
  12. यह द्वैत भाव कब खत्म होता है? दरमयां कब कुछ भी नहीं बचता?

    ReplyDelete
  13. एक राज़ सा है...तुमसे छुपाया हुआ मैंने
    इश्क के हद की गहराइयाँ भला बताते हैं किसी को
    तो तुम्हें कैसे बता दूँ कितना प्यार है.



    बहुत खूबसूरत ,,, ऐसा लग रहा है जैसे आपके मेरे दिल के ज़ज्बात को शब्द दे दिए हो...

    शुक्रिया

    ReplyDelete
  14. its really good to see you back again with these kind of things...darmiyan is a word which also fascinates me so many times....like here...
    वो खामोशी
    जिसे ना जाने कौन खीच लाता था
    हम दोनों के दरमियाँ
    आज सुबह मुंह अंधेरे
    मेरे आँगन मे
    ढेरों लफ्ज़ छोड़ गयी है
    अपने हिस्से के मैंने समेट लिये है
    तुम भी अपने हिस्से के उठा लो "सोनां

    ReplyDelete
  15. दरम्यां
    मामा हैं , मामी है , रिश्ते हैं नाते हैं
    फिर भी कुछ नहीं
    दरम्यां
    इन रिश्तों के
    है भी नहीं भी
    दरम्यां
    यहाँ भी वहां भी
    ये दरम्यां न होता जिंदगी में
    तो क्या होता ?

    ReplyDelete
  16. पता नहीं क्यों आपको जब भी पढता हूँ अपना सा लगता है...

    मुझे हेमंत कुमार जी बहुत पसंद हैं उनकी इस गीत के लिए थेंकु है जी.

    बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  17. ख्वाब और खामोशी के
    शब्दों में कुछ राज है
    गुजरे कल के फासलों
    के दरम्यां कुछ आज है

    बहुत ही उम्दा रचना बेहद खूबसूरत अंदाज में ....

    ReplyDelete
  18. पढ़ा और इक "आह" निकल रह गयी....

    ReplyDelete
  19. दरमयां
    हमारे तुम्हारे...एक ख्वाब है...पलकों पर ठहरा हुआ
    देखो ना, अरे...क्यों यूँ फूंक मार कर उड़ा रहे हो
    क्या बच्चो की तरह इन पर यकीन करते हो

    :) Very cute and serene lines.. An Awesome poem after ages though ..

    ReplyDelete
  20. शब्दों का बेहद खूबसूरत भावनाजाल.. आभार

    ReplyDelete
  21. शब्दों का बेहद खूबसूरत भावनाजाल.. आभार

    ReplyDelete
  22. बहुत ही उम्दा है.. वाकई

    ReplyDelete
  23. darmiyan...

    tum mein kuch aur hum mein kuch, is kuch kuch mein simat gaya sabhi kuch !!

    Umda likha hai !!

    ReplyDelete
  24. दरमियाँ होता है और भी बहुत कुछ्
    जो सुन लिया जाता है बिना कहे
    और होती हैं मुस्कुराहटें
    छ जाती हैं जो होठों पर
    ऐसा कुछ पढ़ कर

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...