19 November, 2019

देर रात के राग

हम अगर अपने जीवन को देखें तो पाते हैं कि हम एक तलाश में होते हैं। हमारे अलग अलग हिस्सों को अलग अलग चीज़ें पुकारती हैं। मन, प्राण, शरीर, सब कुछ अपने लिए कुछ ना कुछ खोज रहा होता है। 

पैरों को कभी कच्ची मिट्टी की तलाश होती है, कभी समंदर किनारे की बालू और कभी कभी ही सही, ट्रेड्मिल की पट्टी की। पैर कभी कभी नए शहरों की ज़मीन भी तलाश रहे होते हैं। हम अगर पाँव ना बाँधें और उन्हें जहाँ जाने की इच्छा हो, जाने दें तो ज़िंदगी एक ख़ूबसूरत नृत्य सी होगी, जिसमें सुर होंगे, लय होगी, ताल होगी। उस झूम में हमें दुनिया से थोड़ी कम शिकायत होगी, हम ख़ुद के प्रति थोड़े ज़्यादा उदार होंगे। 

इसी तरह हाथों को भी कई चीज़ों की दरकार होती है। अलग अलग समय में इन हाथों ने कभी सिगरेट के लिए ज़िद मचायी है तो कभी पुराने क़िले के पुराने पत्थरों की गरमी को अपने अंदर आत्मसात करने की। कभी कभी जब कुछ ऐसे लोगों से मिले हैं कि जो न दोस्त हैं न महबूब और जिनके लिए कोई परिभाषा हमने गढ़ी नहीं है अभी, ये हाथ कभी कभी उन नालायक़ लोगों के हाथों को थामने के लिए भी मचल उठते हैं। हर कुछ समझदारी से इतर, मेरे हाथों ने कुछ हमेशा चाहा है तो वो सिर्फ़ क़लम और काग़ज़ है। ज़िंदगी के अधिकतर हिस्से में मैंने ख़ुद को लिखते हुए पाया है। सुख में, दुःख में, विरक्ति में, वितृष्णा में, प्रेम में, विरह में…लगभग हर मन:स्थिति में मैंने अपने हाथों को क़लम तलाशते पाया है और ज़रा सा भी एक टुकड़ा काग़ज़। मेरे लिए लिखना सिर्फ़ राहत ही नहीं, उत्सव भी है। मैं अपने होने को अपने लिखे में सहेजती हूँ। एक एक चीज़ है जो उम्र भर मेरे लिए कॉन्स्टंट रही है। मेरे पास हमेशा काग़ज़ रहता है, क़लम रहती है। किताब शायद कभी हो भी सकता है कि बैग में न हो, लेकिन बिना एक छोटी सी नोट्बुक और पेन के मैं कहीं नहीं जाती। मन के अंधेरे में क़लम का होना मशाल से कम नहीं होता। इससे रास्ता छोटा नहीं होता लेकिन उसका दुरूह होना अगर दिख जाता है तो मैं ख़ुद को बेहतर तैय्यार कर पाती हूँ। 

किसी सूरजमुखी के फूल की तरह मेरा चेहरा धूप तलाशता है और जेठ की मिट्टी की तरह बारिश। अपने इर्द गिर्द लपेटने को बदन कोहरा तलाशता है। 

मैं जिन लोगों से बहुत प्यार करती हूँ, मुझे उनकी आवाज़ से मोह हो जाता है। ज़िंदगी में ज़रूरत से ज़्यादा माँगने या चाहने की आदत नहीं रही कभी तो बहुत ज़्यादा बात करने की गुज़ारिश भी किसी से की हो, मुश्किल है। लेकिन कभी कभी, जब ज़रूरत हो, उस वक़्त आवाज़ का एक क़तरा मुहैय्या हो जाए, इतना तो चाहिए ही होता है।

कुछ दिन पहले ब्लड प्रेशर बहुत ज़्यादा स्पाइक कर गया था। या मशीन ख़राब रही होगी। कुछ भी हो सकता है। दोस्तों ने मेडिटेशन करने की सलाह दी। हम नौ बजे उठने वाले प्राणी उस दिन सात बजे उठ गए। घर में पूरब की ऊनींदी धूप आ रही थी। हल्की गुमसुम, ठंडी हवा चल रही थी, जैसे कोई पीछे छूट गया हो। बालकनी में फूल खिले थे। एक तरह की लिली, गेंदा, सफ़ेद अपराजिता, वैजंति। मैं आसानी पर बैठी मन्त्र पाठ कर रही थी। कुछ ही मंत्र हैं, जिनसे ध्यान करने में भी गहरा जुड़ाव होता है। इसमें से एक है, महामृत्युंजय मंत्र। सुबह को मन शांत करके, गहरी गहरी साँस लेते हुए मंत्र पढ़े। बहुत कुछ बचपन का झाँक के चला गया बालकनी से, मुझे छेड़े बिना। 

इतनी रात गए हज़ार बातों में में एक अजीब बात सोच रही हूँ। महामृतुंजय मंत्र मृत्यु से बचने का मंत्र नहीं है, ये मृत्यु के भय से मुक्त करने का मंत्र है। ये इतनी ही छोटी और इतनी ही गहरी बात है कि मैं इसमें उलझ गयी हूँ। आज के पहले इस बात पर मेरा ध्यान कैसे नहीं गया। कि वाक़ई, हमें मुक्ति भय से ही चाहिए…कि मृत्यु तो शाश्वत सत्य है, उसे दूर करने का कोई मंत्र हो भी क्यूँ। यह सोचना मेरे मन को थोड़ा शांत करता है। कि मैं जाने क्या तलाश रही थी, लेकिन आज जहाँ हूँ, ये जगह अच्छी है। ये लोग जो हैं, अच्छे हैं। कि दुनिया अभी भी जीने लायक़ ख़ूबसूरत है।

No comments:

Post a Comment

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...