19 May, 2015

इक रोज़ उसी बेपरवाही से क़त्ल किया जाएगा हमें | जिस बेपरवाही से हमने जिंदगी जी है


इस कविता को बहुत दिन पहले फेसबुक पर लिखा था. कल रात इसकी अचानक तलब लगी. कोई एक टुकड़ा था जो याद में चुभ गया था. यहाँ के बुरे इन्टरनेट कनेक्शन में इसे तलाशना भी मुश्किल था. फिर सोच रही थी कि हमें टूटी फूटी चीज़ें अक्सरहां ज्यादा पसंद आती हैं. के मुझे साबुत चीज़ों को तोड़ देने का और टूटी चीज़ों को जोड़ देने का शौक़ है. जाने क्या सोचते हुए परख रही थी उसका दिल. देख रही थी कि कितनी खरोंचें लगी हैं इस पर. फिर अपने दिल को देखा तो लगा कि है इसी काबिल के इसे तोड़ दिया जाए.
---

इन्हीं आँखों से क़त्ल किया जाएगा हमें 
और भीगी रात के कफ़न में लपेट कर
दफना दिया जाएगा
किसी की न महसूस होती धड़कनों में

कोई चुप्पी बांधेगी हमारे हाथ
और विस्मृति की बेड़ियों में रहेंगे वो सारे नाम
जिनकी मुहब्बत
हमें लड़ने का हौसला दे सकती थी 

इन्साफ के तराजू में
हमारे गुनाहों का पलड़ा भारी पड़ेगा
सबकी दुआओं पर
और तुम्हारी माफ़ी पर भी 

हमारे लिए बंद किये जायेंगे दिल्ली के दरवाजे
देवघर के मंदिर का गर्भगृह
और सियाही की दुकानें

बहा दिया जाएगा जिस्म से
खून का हर कतरा
तुम्हारी तीखी कलम की निब से काट कर हमारी धमनी

हमें पूरी तरह से मिटाने को
बदल दिए जायेंगे तुम्हारी कहानियों के किरदारों के नाम
तुम्हारी कविताओं से हटा दी जाएँगी मात्रा की गलतियाँ
और तुम्हारे उच्चारण से 'ग' में लगता नुक्ता

इक रोज़
उसी बेपरवाही से क़त्ल किया जाएगा हमें
जिस बेपरवाही से हमने जिंदगी जी है

9 comments:

  1. "...के मुझे साबुत चीज़ों को तोड़ देने का और टूटी चीज़ों को जोड़ देने का शौक़ है. "

    ReplyDelete
  2. कुछ शब्द ही काफी नही है........उस थोड़े के लिए ....जो बचा है..........हमारी तक़दीरो का फैसला हमारे आने से बहुत पहले ही हो जाता है.......हम बस चौकोर खानों में दौड़ते कुछ प्यादे ही हैं.....

    ReplyDelete
  3. कुछ शब्द ही काफी नही है ....उस थोड़े के लिए ......जो बचा है....बाकी हमारी ज़िन्दगी का आखरी पन्ना तक हमारे आने से बहुत पहले ही लिखा जा चूका होता है......

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. बेपरवाही से कत्ल किया जाएगा हमें... और हम प्रेत बनकर तुम्हारे आस पास रहेंगे..

    ReplyDelete
  6. कोई चुप्पी बांधेगी हमारे हाथ
    और विस्मृति की बेड़ियों में रहेंगे वो सारे नाम
    जिनकी मुहब्बत
    हमें लड़ने का हौसला दे सकती थी .......... zbrdst.

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...