25 November, 2012

अहा जिंदगी!

कल सुबह सुबह अहा! जिंदगी वार्षिक विशेषांक की कॉपी मिली...साथ में चेक...सबसे पहले पापा को फोन किया...बहुत देर बताती रही मैगजीन कैसी है...मेरा छपा हुआ कैसा है...मैं जब हाइपर स्थिति में होती हूँ तो सामने वाले के पास हूँ-हाँ करने के सिवा कोई चारा भी नहीं होता.

कुणाल को बिना चाय के उठा कर हल्ला करना शुरू...मेरी मैगजीन आ गयी...मेरी मैगजीन आ गयी.

फिर भाई को, आकाश को, घर पर, बरुन मामा...सबको फोन किया...स्मृति को मेसेज किया, अंशु को मेल करके कॉपी भेजी और ऐसे कई खुराफाती काम किये जो लगभग महीनों से नहीं किये थे.

फिर साकिब की शादी की शोपिंग करनी थी...तो तैयार होकर निकल गए...एक शेरवानी पसंद आई है अभी...फोरम में जा के एक और पेन ख़रीदे...लामी का...इस बार ट्रांसपेरेंट वाला. पहले के दो पेन खो गए हैं :( हरे और व्हाईट वाले :( कुणाल बोला की पढ़ाई लिखाई का पैसा को पढ़ाई लिखाई के चीज़ में लगाना चाहिए. हमको तो कोई भी कारण चाहिए होता है कि पेन खरीदना जस्टिफाय कर सकें बस. लेट नाईट पिक्चर देखे...घर आ के सो गए.
---
फिर आज की सुबह हुयी...मैगजीन के कुछ अच्छे फोटो खींचने को कैमरा बाहर निकाला, बेचारा कितने दिन से इग्नोर मोड में पड़ा था. दालचीनी वाली कॉफ़ी बनायीं. फेवरिट मग में डाली और कैमरा रेडी. सुबह के वक्त खिड़की से बड़ी अच्छी धूप आती है और इसमें फोटो खींचना बहुत पसंद है मुझे. तो ये रहे मैगजीन के दो फोटो. अब बाकी की कहानी शुरुआत से. :)
---
सितम्बर के पहले हफ्ते में पारुल जी का फोन आया था कि तुम्हारी क्राकोव डायरीज अहा! जिंदगी में छपवाने के लिए भेज दो. बहुत अच्छी लिखी हैं. ब्लॉग लिखते हुए बहुत साल हुए तब से पारुल का चाँद पुखराज का हमेशा मेरी रीडिंग लिस्ट में रहा है...उनका फोन आया ये भी बहुत अच्छा लगा. तो सबसे पहले तो पारुल जी का ढेर सारा शुक्रिया.

कहीं लिखा हुआ कुछ छपवाने को लेकर अधिकतर विरक्त भाव रहता है...मेरे लिए इतना काफी है कि ब्लॉग पर लिख लिए...पर यहाँ बात अहा! जिंदगी की थी. ये मैगजीन मेरे पापा को बहुत पसंद है...कई बार उनसे इसका जिक्र सुना था...तो लगा की अहा! जिंदगी में छपेगा तो पापा को कितना अच्छा लगेगा. इसलिए बात स्पेशल थी.

ये था पहला फैक्टर...इसके बावजूद क्राकोव डायरीज का आखिरी पार्ट लिख नहीं पायी थी उस समय तक क्यूंकि इस डायरी के एक एक पन्ने को लिखने के लिए गहरे अवसाद से गुजरना होता था...उन लम्हों को फिर से जीना होता था. एक दिन बहुत कोशिश करके आखिरी पार्ट लिखा 'ये खिड़की जिस आसमान में खुलती है, वहां कोई खुदा रहता है'. फिर अगला काम था जो मुझसे सबसे ज्यादा नापसंद था...लिखे हुए को रिव्यू करना. ब्लॉग पर लिखने में कई बार गलतियाँ रह जाती हैं...क्यूंकि ये कलम से लिखने जैसा नहीं है. पब्लिश किये पन्ने पर गलतियाँ मुझे बर्दाश्त नहीं होतीं...और मैं किसी सब-एडिटर पर खुद से ज्यादा विश्वास कर नहीं सकती कि वो पूरे लेख को ठीक से पढ़ेगा. कुल मिला कर २६ पन्ने हुए थे और साढ़े दस हज़ार शब्द. इनको प्रूफचेकर की निगाह से पढ़ना पड़ा. फोन के कोई दो हफ्ते बाद मैंने आर्टिकल भेज दी.

नवम्बर में अहा! जिंदगी के संपादक आलोक जी का मेल आया कि आपका लेख अहा! जिंदगी के वार्षिक विशेषांक में छपा है. यहाँ से एक दूसरी ट्रेजर हंट शुरू हुयी...मैग्जिन खोजने की...पापा ने पटना में पेपर वाले को बोल रखा था उसके अलावा बुक स्टाल पर भी कई बार देखा लेकिन मैक्जिन सोल्ड आउट थी. फिर जिमी देवघर गया हुआ था वहां उसको खोजने पर एक प्रति मिली. भाई ने खुश होकर फोन किया...कि वो भी रेगुलर रीडर है मैगजीन का...कि बहुत अच्छा छपा है...पता है पूरा आठ पन्ने में छपा है. हम हियाँ परेशान कि बाबू रे! लगता है जितना भेजे थे लिख के सब छाप दिया है. पता नहीं कैसा है...कहाँ एडिट हुआ है रामजाने. ऊ अपने फेसबुक पर शेयर किया...हम फूल के कुप्पा. खाली उसका ऊ पोस्ट देखने के लिए एक रात फेसबुक एक्टिवेट किये और फटाफट हुलक आये.

फिर दिल्ली से बरुन मामा का फोन आया कि मैगजीन हाथ आ गयी है लेकिन इसमें तुम्हारा छपा नहीं है. हम नौटंकीबाज...बोलते हैं मामाजी ठीक से देखिये...मेरा नाम पूजा उपाध्याय है :) :) इसी नाम से मिलेगा. फिर मस्त कोम्प्लिमेंट मिला मामाजी से...कि तुमको बुरा लगेगा लेकिन फ्रैंकली स्पीकिंग हमको नहीं लगा था कि इतना कवरेज मिलेगा...बताइये...अपने घर में कितना अंडर एस्टीमेट किया जाता है हमको...कोई इज्ज़ते नहीं है हमारे लिखने का. खैर सेंटी होना बंद किये. मामाजी भी पढ़ के बोले कि बहुत अच्छा लिखी हो.

इस दौरान यहाँ बैंगलोर में कुणाल की मम्मी, नानाजी, नानी और गोलू आये हुए थे...कुणाल की मम्मी छठ करती हैं तो सबको दीवाली की बाद वापस जाना पड़ा...यहाँ से कलकत्ता फ्लाईट और फिर ट्रेन से देवघर. इस बीच हमारे होनहार देवर ने मैगजीन ढूंढ निकाली और फोन किया कि भाभी मैगजीन मिल रहा है...हम बोले दो ठो कॉपी उठा लो...एक ठो हम अपने पापा को भेज देंगे. फिर ट्रेन का सफ़र था देवघर का चार घंटे का तो बीच में नानाजी भी देख लिए मैगजीन...जैसा कि हमारे बिहार में होता है...नाम छपा हुआ देख कर सब लोग बहुत खुद हो जाते हैं...हियाँ तो फोटो भी छपा था उसपर आठ पन्ने का आर्टिकल...नानाजी खुश कि पतोहू खानदान का नाम रोशन की :) :) उनका कितना अरमान रहा कि अखबार में किसी का नाम आये तो फाइनली ई महान काम हम पूरा किये. :) :) (इमैजिनरी फोटू में हम माथा तक घूंघट काढ़े लजाये हुए मुस्कुरा रहे हैं)

ये सब ड्रामा पिछले एक महीने से चल रहा था जबकि हम खुद देखे ही नहीं थे कि भैय्या मैगजीन है कैसी और कैसा छपा है...कि हम तो कभी पढ़े थे नहीं ई वाला मैगजीन. घर पर फोन करके हल्ला किये कि रे हमरे मैक्जीन का पतंग और हवाईजहाज बनाओगे कि भेज्बो करोगे...तो पता चला कि काजू भैय्या का बर्तुहार आ गया था तो हमारा मैगजीन भेजने का काम अभी लेट हो गया...उसपर गाँव से स्पेशल खोया का पेड़ा आ रहा है उसके बिना नहीं आएगा...तिस पर छठ का परसाद...ठेकुआ भी कुरियर होगा. एक मैक्जिन के पीछे कितना उपन्यास लिखने लायक कहानी बन रहा था इधर.

दरबान को रोज एक बार सुबह और एक बार शाम में पूछ लेते कि हमारा कोई कुरियर आया है...खाली एक परसों नहीं पूछे रात को कि बेचारे हम थक कर आये थे ऑफिस से तो भोरे भोर एकदम चकाचक हो गयी. मैगजीन देख कर एकदम मिजाज लहलहा गया जब ई सोचे कि घर में जितना लोग देखा होगा कितना खुश हुआ होगा. मेरा क्या हम तो ब्लॉग छाप के खुश हैं...इतने में मेरा खाना-पानी-दाना चल जाता है. सबसे अच्छा कोम्प्लिमेंट कुणाल से मिला...कि ये है पोलैंड...हमको तो लगता है हम पोलैंड गए ही नहीं...सब तुम ही घूम के आई हो...जो कि गलत है भी नहीं वो तो ऑफिस में काम करता था...घुमक्कड़ी तो हम करते रहते थे...पर दुनिया का कोम्प्लिमेंट एक तरफ...पतिदेव का एक तरफ...काहे कि वो मेरा सबसे बड़ा क्रिटिक है. उसको कुछ पसंद आ गया तो सच में अच्छा लिखे होंगे.

अब आप कहियेगा कि हम इतना कहानी ऊ भी सन्डे को काहे सुना रहे हैं...क्राकोव डायरी ई ब्लॉग पढ़ने वाले सब लोग तो इधर पढ़िए चुके हैं...लेकिन बात यहाँ छपने का नहीं था ना...उसके पीछे कितना ड्रामा था, इमोशन था, ट्रेजेडी था...तो अच्छा ख़ासा मसाला था. बहरहाल...किसी को लिखा हुआ छपा में पढ़ने का मन करे तो अहा! जिंदगी के वार्षिक विशेषांक में छपा है...देखिये कोई अखबार वाले के यहाँ अब भी शायद मिल जाए...और लेट इन्फोर्मेशन के लिए गरियाने का मन है तो एक गिलास ठंढा पानी पी लीजिये...बहुत अच्छा महसूस करेंगे ;) ;)

आज के लिए इतना ही...हम चले खाना बनाने...अभी अभी कुक का फोन आया है कि वो आज सुबह नहीं आएगी...यही है जिंदगी कभी ख़ुशी कभी कम...कभी विस्की कभी रम...पतिदेव खुश होंगे कि पूड़ी सब्जी खाने को मिलेगा...हम परेशान कि बनाना तो हमको पड़ेगा. फिर भी...सुबह सुबह मूड मस्त...अहा जिंदगी!

फुटनोट: क्राकोव डायरीज 

15 comments:

  1. mast ekdum. hum bhi padhte the pahle ee magazine. blore mein the 5 saal to band ho gaya tha. aapka wala padhenge mauka milega to. mubarak ho

    ReplyDelete
  2. कुछ दिनों पहले ही हाथ आया यह अंक! छपा हुआ पढ़ लिए हम तो! कागज सहलाते हुए इसे पढ़ना बेहतरीन अनुभव है।

    ReplyDelete
  3. आहा! बहुत बहुत बधाई पूजा

    ReplyDelete
  4. अहा जिन्दगी, इतना खुशी कि सबको पका दिये, अब खाना भी पकाईये...

    बहुत बहुत बधाइयाँ...

    ReplyDelete
  5. बहुत बधाई। अपनी पढ़ने वाली मैग्जीन में अपना लिखा छपना वाकई खुश होने वाली बात है।

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत बधाई, जिन्दगी अहा! जिंदगी हो गई ।

    ReplyDelete
  7. ऐसे ही ख़ुशी मिलती रहे
    बधाई !

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब .....बधाई

    ReplyDelete
  9. humko ye waala nak chahiye, kaise milega... bangalore mein kahin bikte nahin dekha... :(

    ReplyDelete
    Replies
    1. are kuch to bolo, ek edition dilwa do na plz...

      Delete
  10. देर से आने के लिए माफी, सो इस बात पर आप भी गरिया लीजिये :) लेकिन हम बोले बिना नहीं ना सकते हैं इसलिए एक ठो बधाई हमारी ओर से भी ले ही लो बहुत बहुत शुभकामनायें ....:)

    ReplyDelete

Related posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...